हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना: आवेदन फॉर्म,ऑक्सीजन सिलेंडर लोकेशन देखे

हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना आवेदन फॉर्म | Haryana Citizen Oxygen Requirement Form | डोर- टू- डोर ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल स्कीम | Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana in Hindi

कोरोना काल के चलते ऑक्सीजन की कमी एक बहुत बड़ी समस्या बनी हुई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना वायरस के दूसरी लहर में व्यक्ति को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ रही है क्योंकि कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की ऑक्सीजन लेवल में कमी आ जाती है। ऐसे में ऑक्सीजन के बिना सांस लेना उन लोगों के लिए मुश्किल हो जाता है। यहां सबसे बड़ी समस्या इसी बात पर बनी हुई थी कि कोरोना के मरीजों के लिए अस्पताल में ऑक्सीजन की सुविधा कैसे की जाए। संक्रमण के बढ़ते केस को देखते हुए अब हरियाणा सरकार ने एक नई पहल की है। इस पहल के अनुसार हरियाणा सरकार हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना की सुविधा उपलब्ध कराने जा रही है। 9 मई 2021 से राज्य सरकार द्वारा राज्य के नागरिकों के लिए यह सुविधा आरंभ कर दी जाएगी। यह सुविधा उन सभी लोगों के लिए बहुत लाभदायक होगी जो कोरोना वायरस से संक्रमित है परंतु अस्पताल में जगह कम होने के कारण अपना इलाज नहीं करा पा रहे थे अब ऐसे लोग घर पर ही ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता से इस वायरस के साथ जंग को आसानी से लड़ पाएंगे। [यह भी पढ़ें- मेरा पानी मेरी विरासत योजना | ऑनलाइन आवेदन, Mera Pani Meri Virasat रजिस्ट्रेशन]

हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना 2021

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ अमित अग्रवाल जी से मिली जानकारी के अनुसार 9 मई 2021 से हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना की सुविधा उपलब्ध करा दी जाएगी। इसके साथ ही राज्य के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज जी ने यह संकेत दिया है कि ऑक्सीजन जनरेशन प्लांटों के प्रबंधन का कार्य सेना या अर्धसैनिक बलों को सौंपा जा सकता है। हरियाणा सरकार अब बच्चों को कोरोना की वैक्सीन लगाने के लिए भी तैयार है। इसके लिए वे केंद्र सरकार की मंजूरी का इंतजार कर रही हैं और जैसे ही केंद्र सरकार बच्चों के लिए वैक्सीन को मंजूर कर देगी वैसे ही बच्चों के टीकाकरण की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जाएगी। [यह भी पढ़ें- हरियाणा ई-खरीद: किसान पंजीकरण ऑनलाइन (E-Kharid Farmer Registration)]

(पंजीकरण) हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2021

Highlights of Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana

योजना का नामडोर- टू- डोर ऑक्सीजन सिलेंड ररीफिल स्कीम
आरम्भ की गईहरियाणा सरकार के द्वारा
लाभार्थीराज्य के के लोग
पंजीकरण प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यराज्य के जरूरतमंद मरीजों को ऑक्सीजन घर पहुंचना
लाभऑक्सीजन की कमी में सुधार लाना
श्रेणीहरियाणा सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटoxygenhry.in

पानीपत स्थित ऑक्सीजन प्लांट से हो सकती है राज्य में आपूर्ति

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज जी ने केंद्र सरकार से इस बात की मांग की है कि वह दूसरे राज्यों से हरियाणा में ऑक्सीजन भिजवाने की बजाय Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana के तहत पानीपत स्थित ऑक्सीजन प्लांट से ही ऑक्सीजन की पूरी अपूर्ति दिला दें। उन्होंने कहा है कि यदि केंद्र सरकार यह आदेश दे देती है तो इसका सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि यह न केवल हरियाणा में तत्काल ऑक्सीजन की उपलब्धता करेगा बल्कि इससे परिवहन पर होने वाला खर्च भी कम हो जाएगा। दूसरी ओर पानीपत से ही ऑक्सीजन की आपूर्ति होने पर हरियाणा में आ रही ऑक्सीजन को दिल्ली सहित अन्य राज्यों में दिया जा सकता है जो कि उड़ीसा उत्तराखंड एवं पश्चिमी बंगाल से मंगाई जा रही है। [यह भी पढ़ें- हरियाणा सक्षम योजना 2021 | Saksham Yojana Registration, ऑनलाइन आवेदन]

सेना द्वारा किया जा सकता है ऑक्सीजन प्लांट का प्रबंधन

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हरियाणा के गृह मंत्री श्री अनिल विज जी ने ऑक्सीजन प्लांट के नियंत्रण एवं प्रबंधन का कार्य सेना या अर्ध सैन्य बलों को सौंपने के लिए सुझाव दिया है। उनका कहना है कि यह सुरक्षित एवं सुचारु संचालन के लिए लाभदायक होगा। इसके साथ ही गृह मंत्री जी ने कहा कि यह इसलिए आवश्यक है क्योंकि यदि एक भी प्लांट रुक जाता है तो इससे लोगों की सांसे रुक जाएगी। हरियाणा सरकार सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। केंद्र सरकार राज्य में 30, 50, 100 और 200 बिस्तरों की क्षमता वाले सरकारी अस्पतालों में 60 ऑक्सीजन प्लांट भी लगाएगी। [यह भी पढ़ें- हरियाणा बेरोजगारी भत्ता योजना 2021: Haryana Berojgari Bhatta, ऑनलाइन आवेदन]

6 सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट

एक जानकारी के अनुसार हरियाणा में कुल 6 सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट पर कार्य किया जा रहा है। अंबाला के बाद शीघ्र ही पंचकूला फरीदाबाद और हिसार में भी ऑक्सीजन प्लांट का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। इसके साथ ही करनाल और सोनीपत में भी ऑक्सीजन प्लांट लगाए गए हैं जिनमें उत्पादन प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बनाने के लिए राज्य सरकार युद्ध स्तर पर कार्य कर रही है। [यह भी पढ़ें- (Apply) हरियाणा टैबलेट योजना 2021: Haryana Tablet Online Registration]

डोर- टू- डोर ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल स्कीम का लाभ

इस हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना का सबसे बड़ा लाभ यही है कि इसके माध्यम से स्टेप डाउन कोविड ग्रस्त मरीजों को होम आइसोलेशन में ही ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध होगी। इस होम आइसोलेशन का लाभ यह होगा कि लोग घर पर ही ऑक्सीजन की आपूर्ति के साथ अपना इलाज करा सकेंगे और अस्पतालों के ऑक्सीजन बेड गंभीर कोरोना के मरीजों के लिए उपलब्ध हो पाएंगे। यह योजना अस्पतालों में हो रहे बेड की कमी को कम करने में सहायक होगी क्योंकि आप लोग अस्पताल में जाए बिना घर बैठे ही कोरोना से लड़ पाएंगे। [यह भी पढ़ें- |पंजीकरण| मेरी फसल मेरा ब्यौरा रजिस्ट्रेशन: fasal.haryana.gov.in | Meri Fasal Mera Byora]

Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana का क्रियान्वयन

डोर- टू- डोर ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल स्कीम की सुविधा की उपलब्धता के लिए मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव ने विभिन्न जिलों के नोडल अधिकारियों एवं रेड क्रॉस सोसाइटी के सचिवों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल की शुरूआत की गई है जिसमें मरीज या उसके परिजन ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन के दौरान आवेदक को उनका आधार नंबर एवं ऑक्सीजन लेवल के लिए ऑक्सीमीटर के फोटो को अपलोड करना होगा। [यह भी पढ़ें-

  • इसके बाद अन्य जानकारियां जैसे मरीज की उम्र पता आदि जानकारी प्रदान करने के बाद आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।
  • आप एक मोबाइल नंबर के साथ 1 दिन में केवल एक बार ही आवेदन कर सकते हैं। इस पोर्टल पर कुछ स्वयंसेवी संस्थाएं भी अपना रजिस्ट्रेशन कर पाएंगे।
  • इस रजिस्ट्रेशन के माध्यम से उनका लॉगिन बन जाएगा और जैसे ही पोर्टल पर जरूरतमंद मस्जिद ऑक्सीजन सिलेंडर के रिफिल के लिए आवेदन करेगा तो यह आवेदन स्वयंसेवी संस्था एवं रेड क्रॉस सोसाइटी के पास रिफ्लेक्ट हो जाएगा।
  • यह आग्रह रेड क्रॉस सोसाइटी अश्व सेवी संस्था में से किसी भी एक द्वारा स्वीकार कर लिया जाएगा तो आवेदक के दिए गए मोबाइल नंबर पर एक टेक्स्ट मैसेज पहुंच जाएगा।

SARAL Haryana Movement Pass

ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए निर्धारित धनराशि

यदि आप भी हरियाणा की Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana के तहत ऑक्सीजन सिलेंडर प्राप्त करने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दी गई राशि की जानकारी अवश्य जान लेनी चाहिए।

डी टाइप के लिए सिलेंडर की रिफिल के लिए250 रुपये
बी टाइप सिलेंडर की रिफिल के लिए107 रुपये

यदि आवेदक अपने घर पर सिलेंडर लाना चाहता है, तो उसके लिए वाहन का किराया भी अलग से देना होगा।

वाहन का किराया डी टाइप सिलेंडर के लिए100 रुपये
बी टाइप सिलेंडर के लिए50 रुपये

कलेक्टर ने कहा कि जिले में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति लगातार बढ़ रही है।

खाली सिलेंडर ना होने पर धरोहर राशि जमा करवा कर सिलेंडर मुहैया करने की व्यवस्था

इसके साथ ही वे लोग जिनके पास अपना खाली सिलेंडर नहीं है वे प्रशासन की ओर से धरोहर राशि जमा करवा कर ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया करवा सकते हैं। यहां d-type सिलेंडर के लिए आपको ₹10000 की धरोहर राशि जमा करवानी होगी एवं भी टाइप सिलेंडर के लिए ₹5000 की धरोहर राशि जमा करानी अनिवार्य है। यह धरोहर राशि आपको जिला रेडक्रॉस के पास जमा करवानी होगी और मरीज के ठीक होने पर तत्काल सिलेंडर वापस करना होगा। सिलेंडर की वापसी पर धरोहर राशि आवेदक को लौटा दी जाएगी। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) किसान मित्र योजना 2021: Haryana Kisan Mitra Yojana ऑनलाइन आवेदन]

हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना आवेदन प्रक्रिया

यदि आप भी Haryana Door-to-Door Oxygen Re-filling Yojana के तहत ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले आपको डोर-टू-डोर ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल स्कीम की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
हरियाणा डोर-टू-डोर ऑक्सीजन रिफिल योजना
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको सिटीजन ऑक्सीजन रिक्वायरमेंट फॉर्म दिखाई देगा।
  • इस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी ध्यान पूर्वक दर्ज करें जैसे जिला, मरीज का नाम, मरीज की आयु, आधार नंबर, पता, मोबाइल नंबर, मरीज का ऑक्सीजन लेवल आदि।
  • अब आपको मरीज की फोटो ऑक्सी मीटर के साथ या डॉक्टर के प्रिसक्रिप्शन की रिपोर्ट की स्कैंड कॉपी अपलोड करनी होगी। इसके बाद सिलेंडर के साइज का चयन करें और सबमिट का बटन दबाएं।
  • सम्मिट का बटन दबाते ही आपके आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
  • आपके आवेदन की स्वीकृति होते ही आपके दिए गए मोबाइल नंबर पर आपको एक एसएमएस के माध्यम से सूचित कर दिया जाएगा।

Leave a Comment