(रजिस्ट्रेशन) उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना: मजदूर भत्ता योजना ऑनलाइन फॉर्म

योगी मजदूर योजना आवेदन | Majdur Bhatta Yojana Online Form | उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना 2022 | मजदूर भत्ता योजना ऑनलाइन फॉर्म

योगी आदित्यनाथ जी द्वारा राज्य के श्रमिक लोगों के लिए उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना का शुभारम्भ किया गया है, जिसके अंतर्गत उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा श्रमिकों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। कोरोना संक्रमण के कारण देश के लोगों की आर्थिक समस्याओं में वृद्धि हुई है, और लोगों के लिए लॉकडाउन एक बहुत बड़ी समस्या बन गया है। यही कारण है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने राज्य के श्रमिकों के लिए Majdur Bhatta Yojana 2022 का शुभारंभ किया है। इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश में रहने वाले 1500000 दिहाड़ी मजदूरों और निर्माण क्षेत्र (रिक्शा वाले, खोमचे वाले, रेहड़ी वाले, फेरी वाले, निर्माण कार्य करने वाले) के 20.37 लाख श्रमिकों को उनकी रोजमर्रा की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रति व्यक्ति ₹1000 का भत्ता प्रदान किया जाएगा। [यह भी पढ़े- यूपी जनसंख्या कानून 2022: UP 2 Child Policy, जनसंख्या विधेयक मसौदे की सुविधाएं व कटौती]

Yogi Majdur Yojana – योगी मजदूर योजना

राज्य सरकार द्वारा शुरू की गयी उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के माध्यम से श्रमिक नागरिकों को 1000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी का कहना है कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण लॉकडाउन लगाना एक आवश्यकता बन गया है। परंतु इस लॉकडाउन के समय में भी बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने वर्करों को घर में रहकर काम करने की इजाजत दे रही है। अधिकतर लोग वर्क फ्रॉम होम के चलते अपने घरों में बैठकर कार्य कर रहे हैं। दुकानदार भी अपनी जमा पूंजी के साथ अपना गुजारा कर सकते हैं। परंतु इसके बावजूद राज्य में एक ऐसी श्रेणी भी है जो ना तो कोई जमा पूंजी रख पाती है और ना ही इस प्रोग्राम के चलते अपने घर कार्य कर सकती है। इस श्रेणी में सभी मजदूर एवं दिहाड़ी दार शामिल है। [यह भी पढ़े- UP Bhulekh 2022: यूपी भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल@upbhulekh.gov.in]

  • उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली धनराशि सीधे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की जाएगी। साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को निःशुल्क राशन प्रदान किया जायेगा।
  • ऐसे नागरिक जिनके पास राशन कार्ड उपलब्ध नहीं है, वे अपना राशन कार्ड बनवाकर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • इस लॉकडाउन के चलते मजदूरों की आय का कोई साधन नहीं है इसलिए राज्य सरकार श्रम विभाग में पंजीकृत 1500000 दिहाड़ी मजदूरों को, 16 लाख दिहाड़ी सफाई कर्मचारियों को Majdur Bhatta Yojana के तहत 58000 ग्राम सभा में से 20 – 20 मजदूरों को ₹1000 की धनराशि भत्ते के रूप में प्रदान करेगी।

Majdur Bhatta Yojana के अंतर्गत डेढ़ करोड़ श्रमिकों के खाते में हस्तांतरित की गई राशि

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा आरम्भ की गयी मजदूर भत्ता योजना के पहले चरण के अंतर्गत  3 जनवरी 2022 को प्रदेश के लगभग डेढ़ करोड़ असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता प्रदान किया जा चुका है। इस योजना के अंतर्गत श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता के रूप में प्रत्येक श्रमिक को 1000 रुपये की धनराशि उनके बैंक खातें में हस्तांतरित की गयी है। वर्तमान समय में राज्य में पंजीकृत श्रमिकों की कुल संख्या 5 करोड़ 90 लाख 8 हजार 745 है, जिनमें से लगभग 38160725 असंगठित क्षेत्र के श्रमिक है एवं बीओसीडब्ल्यू बोर्ड के तहत कुल 12748020 पंजीकृत श्रमिक है। इस योजना के पहले चरण में प्रदेश के डेढ़ करोड़ लाभार्थी श्रमिकों को भत्ते की राशि प्रदान की जा चुकी है। [यह भी पढ़ें- (prernaup.in) प्रेरणा पोर्टल यूपी | Mission Prerna Portal Login, Registration]

उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी योजना

Overview of Majdur Bhatta Yojana

योजना का नामउत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना
आरम्भ की तारीख21 मार्च 2020
आरम्भ की गईउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
वर्ष2022
लाभार्थीराज्य के श्रमिक
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यश्रमिकों को भत्ता प्रदान करना
श्रेणीउत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटhttp://uplabour.gov.in/

मजदूर भत्ता योजना का उद्देश्य

भारत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण हाहाकार मचा हुआ है। इसके डर से लोग अपने कामों पर नहीं जा पा रहे हैं ऐसे में पैसे ना हो पाने के कारण मजदूरों कोई आर्थिक जरूरतों को पूरा करने में समस्याएं आ रही हैं। कोरोना वायरस की वजह से मंदी के आसार भी साफ दिखाई दे रहे हैं यही कारण है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने Majdur Bhatta Yojana का शुभारंभ किया है। उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत दिहाड़ी मजदूर एवं निम्न निर्माण श्रमिक राज्य सरकार द्वारा अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ₹1000 के वित्तीय सहायता प्राप्त करेंगे। इस योजना को शुरू करने के पीछे राज्य सरकार का मुख्य उद्देश्य यही है कि मजदूरों को घर पर खाने पीने में किसी तरह की कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े। [यह भी पढ़े- मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना 2022: UP Yuva Swarojgar Yojana ऑनलाइन आवेदन]

उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत स्थानांतरित धनराशि

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि दैनिक कार्य करने वाले विभिन्न श्रेणियों के मजदूरों (रिक्शा चालक , खोमचे वाले, रेहड़ी वाले, फेरी वाले, निर्माण कार्य करने वाले, ई-रिक्शा चालक और पोर्टर्स) को योगी मजदूर योजना के तहत अब तक 81755000 रुपए की धनराशि वितरित कर दी गई है। इसके चलते उत्तर प्रदेश सरकार ने 11 लाख से अधिक निर्माण श्रमिकों के खाते में ₹1000 की धनराशि वितरित की है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश राज्य में रहने वाले अंत्योदय योजना, मनरेगा और श्रम विभाग में पंजीकृत 1.65 करोड़ से ज्यादा श्रमिक एवं  देहाड़ी मजदूरों को एक माह का निशुल्क राशन भी प्रदान किया जा रहा है। इसके साथ ही श्रम विभाग में पंजीकृत 20.37 लाख श्रमिकों को डीबीटी के माध्यम से भरण-पोषण के ₹1000 खाते में भेजे जा रहे हैं। [यह भी पढ़े- झटपट बिजली कनेक्शन योजना: UPPCL Jhatpat Connection @uppcl.org/jhatpatconn]

उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के लाभार्थी

  • रिक्शा चालक
  • पटरी व्यवसायियों
  • निर्माण श्रमिकों
  • अंत्योदय श्रेणी के लोगों
  • स्ट्रीट वेंडर
  • पल्लेदार
  • सड़क किनारे रेडी खोमचा लगाने वाले
  • रिक्शा और ठेला चालक
  • नाई
  • धोबी
  • दर्जी
  • मोची
  • फल और सब्जी विक्रेता
  • दिहाड़ी मजदूर
  • हलवाई आदि

मजदूर भत्ता योजना के अंतर्गत असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को प्रदान किया जाएगा भत्ता

राज्य सरकार ने Majdur Bhatta Yojana के अंतर्गत प्रदेश के सभी असंगठित क्षेत्र के पंजीकृत श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ते के रूप में 2 हजार रुपये की राशि प्रदान करने का निर्णय लिया है। भरण-पोषण भत्ते की यह राशि लाभार्थियों को दो किस्तों में प्रदान की जाएगी, जिसे 1000 प्रति किस्त प्रदान किया जायेगा। इस योजना के अंतर्गत प्रदान किये जाने वाले भत्ते की पहली किस्त 3 जनवरी 2022 को उत्तर प्रदेश असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के द्वारा वितरित की जा चुकी है। राज्य सरकार ने इस भत्ते की पहली किस्त की घोषणा विधानमंडल में शीतकालीन सत्र में चालू वित्तीय वर्ष के दूसरे अनुपूरक बजट के दौरान की थी, जिसके लिए 4000 करोड़ रुपए के बजट का निर्धारण किया गया था। [यह भी पढ़ें- UP Scholarship 2022: यूपी छात्रवृत्ति आवेदन, scholarship.up.gov.in स्टेटस व लॉगिन]

2.5 करोड़ श्रमिक हुए अब तक पंजीकृत

वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के अंतर्गत लगभग 2.5 करोड़ श्रमिकों ने अपना पंजीकरण करवा लिया है। पंजीकृत लाभार्थी श्रमिकों को उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत प्राप्त होने वाली भत्ते की राशि सीधे उनके बैंक खातें में स्थांतरित की जाएगी। साथ ही लाभार्थी श्रमिकों को इस योजना से प्राप्त होने वाले लाभों के लिए अपने बैंक खाते को आधार से लिंक करवाना अनिवार्य होगा। ऐसे नागरिक जिन्हें किसान सम्मान निधि या अन्य किसी योजनाओं के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्राप्त होती है, वें उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभों हेतु पात्र नहीं माने जायेंगे। [यह भी पढ़ें- fcs.up.gov.in | यूपी राशन कार्ड 2022 ऑनलाइन आवेदन, UP FCS आधिकारिक वेबसाइट, नई सूची]

उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के अंतर्गत 23 लाख श्रमिकों को पहुंचाया गया लाभ

योगी मजदूर योजना का आरम्भ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदितयनाथ जी के द्वारा प्रदेश के श्रमिकों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के हेतु किया गया है। राज्य सरकार द्वारा 9 जून 2021 को इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के 23 लाख श्रमिकों को उनके बैंक खातें में भत्ते की राशि स्थांतरित की गयी है। इस अवसर पर राज्य के मुख्यमत्री जी ने कोरोना काल में श्रमिकों के योगदान की सराहना करते हुए उन्हें इस बात का भी आश्वासन दिया कि भविष्य में प्रदेश के किसानों, श्रमिकों, युवाओं, कामगारों आदि के उन्नति हेतु सरकार प्रतिबद्धता से काम करते रहेगी। साथ ही इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी के द्वारा असंगठित क्षेत्र के कामगारों के पंजीकरण हेतु एक पोर्टल का भी आरम्भ किया गया था। [यह भी पढ़ें- BC सखी योजना रजिस्ट्रेशन: UP BC Sakhi Yojana ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, बैंकिंग सखी]

उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के लाभ

  • राज्य के गरीब दिहाड़ी मजदूर एवं निर्माण श्रमिक योगी मजदूर योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा ₹1000 की आर्थिक सहायता प्राप्त करेंगे।
  • उत्तर प्रदेश सरकार इस योजना के तहत कुल 3500000 मजदूरों को लाभ प्रदान करेगी।
  • इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने घोषणा की है, कि बीपीएल परिवारों को पीडीएस केंद्रों से 20 किलो गेहूं एवं 15 किलो चावल सरकार द्वारा मुफ्त प्रदान किए जाएंगे।
  • केवल उत्तर प्रदेश के मजदूर लोग ही उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि हमने प्रदेश में आइसोलेशन वार्ड बनाए हैं इसलिए इस वायरस से घबराने की जगह चुनौतियों से लड़ने का प्रयास करें। इसके साथ ही उन्होंने मजदूरों, ठेला लगाने वालों आदि को तत्काल राशन उपलब्ध कराने की घोषणा भी की है।
  • श्रम विभाग, नगर विकास एवं ग्राम सभाओं में पंजीकृत मजदूरों को Majdur Bhatta Yojana का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत प्रदान किए जाने वाला लाभ सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में ट्रांसफर किया जाएगा। इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक का बैंक अकाउंट होना एवं यह खाता आधार कार्ड के साथ लिंक होना अनिवार्य है।

उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन

Majdur Bhatta Yojana 2022 की पात्रता

  • सभी श्रम विभाग नगर विकास एवं ग्राम सभा में पंजीकृत मजदूर इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक का उत्तर प्रदेश राज्य का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • यदि आपके पास श्रम विभाग, नगर विकास या ग्राम सभा में से किसी का भी पंजीकरण या पंजीकरण सर्टिफिकेट नहीं है तो आप इस योजना का लाभ भी नहीं प्राप्त कर सकते।

मजदूर भत्ता योजना 2022 के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

राज्य सरकार ने योगी उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की सुविधा उपलब्ध करा दी है। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले आपको लेबर डिपार्टमेंट की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
उत्तर प्रदेश श्रमिक भरण पोषण योजना
Majdur Bhatta Yojana
  • इस पेज पर आपको एक लॉगइन फॉर्म दिखाई देगा इस फॉर्म के नीचे दिए गए रजिस्टर नाउ का बटन दबाएं।
Majdur Bhatta Yojana
  • अब आपको सदस्य पंजीकरण अनुभाग के अंतर्गत नया पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद आप एक नए पोर्टल पर चले जाएंगे। यहां आपको रजिस्टर हेयर के विकल्प पर क्लिक कर देना है और रजिस्ट्रेशन फॉर्म आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर खुल जाएगा।
pl44
  • इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे आपका नाम मोबाइल नंबर आधार नंबर आदि भरें। सभी जानकारी भरने के बाद रजिस्टर का बटन दबाएं और इस प्रकार आपके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

मजदूर भत्ता योजना ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया

वह सभी इच्छुक व्यक्ति जो इस Majdur Bhatta Yojana का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं नीचे दिए गए चरणों का पालन कर ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आवेदक को अपने नगर निगम के कार्यालय जाना होगा। आप नगर निगम में जाकर अपनी आवेदन प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं।
  • इस योजना के तहत नगर निगम नगर निगम द्वारा राज्य के लोगों को पंजीकरण के लिए उपयुक्त प्रपत्र जारी किए गए हैं।
  • उपयुक्त प्रपत्र में ऐसे व्यक्तियों की जानकारी भरी जाएगी जो श्रम विभाग में पंजीकृत नहीं हैं और जिनके पास मनरेगा कार्ड भी नहीं है।
  • इस श्रेणी/वर्ग में दुकानदार/विक्रेता, रिक्शा/उर्फ/तांगा चालक, टेंपो/अब/ई रिक्शा चालक, दिहाड़ी मजदूर/पार्शिनर/गाड़ी, अन्य दैनिक काम करने वाले व्यक्ति आदि को ट्रैक करें। उपरोक्त उपलब्ध जानकारी के अनुसार ऑनलाइन फीडिंग के लिए नगर निगम में नामित नोडल अधिकारी, नगर पालिका परिसर/नगर पंचायत में कार्यपालक अधिकारी उत्तरी बाड़ होंगे।
  • जिला स्तर के एक अधिकारी को जिला स्तर पर नोडल अधिकारी और तहसील स्तर पर एक अधिकारी को नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया जाएगा जो गरीब लोगों की जानकारी ऑनलाइन फीड करेगा।
  • नगर निगम स्तर से नगर आयुक्त और जिला स्तर के अधिकारी स्थानीय निकाय क्षेत्र में प्रतिदिन रहने वाले लोगों की जानकारी फॉर्म भरेंगे।
  • शहरी स्थानीय निकायों में पंजीकृत/सत्यापित ट्रैक दुकानदारों/विक्रेताओं की सूची, शहरी स्थानीय निकायों में पंजीकृत रिक्शा चालक/अक्का, टंगा चालक उपरोक्त पैरा-2 में उल्लिखित श्रेणी के लिए उपयोग किया जा सकता है।
  • दिहाड़ी मजदूरों की जानकारी लेबर अड्डा पर इकट्ठा होने वाले लोगों से संपर्क कर की जा सकती है। इसके अलावा अन्य दैनिक जीवित व्यक्तियों के पंजीकृत संगठनों से भी वांछित जानकारी प्राप्त करने के लिए संपर्क किया जा सकता है।
  • निदेशक स्थानीय निकाय जल्द ही एक ऑनलाइन पोर्टल जारी करेंगे और ऑनलाइन पोर्टल पर यूजर आईडी और पासवर्ड के माध्यम से सभी जिलों के जिला अधिकारियों को वांछित जानकारी उपलब्ध कराएंगे। वे नोडल अधिकारियों को पासवर्ड भी मुहैया कराएंगे और यह कार्रवाई 15 दिनों में पूरी कर ली जाएगी।

Leave a Comment