मेरा पानी मेरी विरासत योजना | ऑनलाइन आवेदन, Mera Pani Meri Virasat रजिस्ट्रेशन

Mera Pani Meri Virasat Yojana Registration | मेरा पानी मेरी विरासत योजना स्टेटस चेक | Mera Pani  Meri  Virasat Scheme in English |  मेरा पानी मेरी विरासत योजना फॉर्म

हरियाणा सरकार ने मेरा पानी मेरी विरासत योजना को राज्य के किसानो के लिए शुरू किया है। इस योजना के तहत हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण के समय में किसानो को धान के अतिरिक्त अन्य वैकल्पिक खेती करने पर  7 हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि देने की घोषणा की है। जो किसान हरियाणा मेरा पानी मेरी के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, वे ऑनलाइन आवेदन पत्र भर सकते हैं और खुद को agriharyanaofwm.com पोर्टल पर पंजीकृत कर सकते हैं। इस Mera Pani Meri Virasat Yojana 2022 के माध्यम से हरियाणा सरकार धान की खेती से अन्य फसलों जैसे मक्का, अरहर, उड़द, ग्वार, कपास, बाजरा, तिल आदि में सिंचाई करने के लिए 7,000 प्रति एकड़ का वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करने जा रही है। जो किसान इस योजना के तहत लाभ उठाना चाहते हैं उन सभी को हमे इस आर्टिकल को पढ़ना होगा, क्योकि हमने अपने आर्टिकल में Haryana Mera Pani Meri Virasat Scheme से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है। [यह भी पढ़ें- हरियाणा गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण: ekharid.haryana.gov.in ऑनलाइन क्रय प्रणाली]

Table of Contents

Mera Pani Meri Virasat Yojana

हम सभी जानते हैं कि हरियाणा राज्य में कई ऐसी जगहें हैं जहां किसानों को धान की खेती के लिए पानी नहीं मिलता है। इन सभी जगहों पर भूजल स्तर 40 मीटर या उससे अधिक गहरा है। इन सभी जगहों पर किसानों को धान की खेती के अलावा वैकल्पिक फसल बोने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने Mera Pani Meri Virasat Yojana नाम से एक योजना शुरू की है, जिसके तहत फिलहाल राज्य के 19 प्रखंडों को शामिल किया गया है। इस मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत राज्य के किसानों को धान की खेती के अलावा अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई के लिए 7 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी। यदि आप भी हरियाणा राज्य के किसान है और आप राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई हरियाणा Mera Pani Meri Virasat Yojana के तहत आवेदन कर के लाभ प्राप्त करना चाहते है तो आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। [यह भी पढ़ें- (पंजीकरण) हरियाणा कन्यादान योजना 2021: ऑनलाइन आवेदन, मुख्यमंत्री शादी शगुन योजना]

मेरा पानी मेरी विरासत योजना

पीएम मोदी योजना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का उद्देश्य

हरियाणा राज्य सरकार के सीएम मनोहर लाल खट्टर गारू ने 6 मई 2020 को मेरा पानी मेरी विरासत योजना की शुरुआत करते हुए, बताया था की सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मक्का और दाल खरीदेगी, और प्रत्येक पात्र पूर्व को पानी गूलर धान की वैकल्पिक फसल के लिए 7000 रुपये प्रति एकड़ की सहायता करेगी। हरियाणा राज्य सरकार के माध्यम से 2 किस्तों में इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा और बोई गई फसल के पूरा होने के बाद 25% राशि की पहली किस्त जमा की जाएगी, किस्त राशि जैसे कि 75% राशि कटाई से पहले जमा की जाएगी। राज्य सरकार इस हरियाणा Mera Pani Meri Virasat Yojana को 19 ब्लॉकों में लागु करेगी। [यह भी पढ़ें- हरियाणा परिवार पहचान पत्र 2021 | meraparivar.haryana.gov.in ऑनलाइन आवेदन]

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत 25 जून तक होंगे पंजीकरण

हरियाणा राज्य सरकार के द्वारा मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2022 को राज्य के किसानो की सहायता के लिए आरम्भ किया है, और राज्य सरकार ने इस योजना के माध्यम से कोरोना वायरस के संक्रमण के चल रहे समय में किसानो को धान के अतिरिक्त अन्य वैकल्पिक खेती करने पर 7 हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि देने की घोषणा की है। जिसके तहत राज्य सरकार ने बताया की हमने Mera Pani Meri Virasat Yojana के द्वारा गिरते भू-जल स्तर को बचाने के लिए जिला सिरसा में 27550 एकड़ का लक्ष्य रखा है, जिसके लिए सभी किसानो सहायता प्रदान की जाएगी और वह सभी अपना जीवन अच्छे से यापन कर सकते है, तो दोस्तों यदि आप मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत लाभ उठाना चाहते है तो आपको आवेदन करना होगा और राज्य सरकार ने आवेदन करने की तिथि को 25 जून तक बढ़ा दिया जिसके लिए आपको इसके आधिकारिक पोर्टल पपर आवेदन करना होगा। [यह भी पढ़ें- [रजिस्ट्रेशन] हरियाणा मेरी फसल मेरा ब्यौरा 2021- Meri Fasal Mera Byora]

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में किसान को दिया जाएगा दोहरा फायदा

हरियाणा सरकार के माध्यम से मेरा पानी मेरी विरासत योजना को राज्य के किसानो को सहायता देने के उदेश्य से शुरू किया है। इस योजना के माध्यम से हरियाणा के मुख्य मंत्री मनोहर लाल खट्टर जी ने कोरोना वायरस के प्रकोप के समय में किसानो को धान के अतिरिक्त अन्य वैकल्पिक खेती करने पर  7 हजार रुपये हर एकड़ की प्रोत्साहन राशि प्रदान करने की घोषणा की है, और इसके साथ ही हरियाणा सरकार ने मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2022 के तहत दोहरा फायदा देने की बात कही है जिसके तहत राज्य के किसानो को धन की असल छोड़ कर सब्जी उत्पादन व दलहन की खेती करनी होगी उसके बाद ही लाभ दिया जाएगा, और राज्य सरकार ने इस लाभ को उठाने के लिए 25 जून तक ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया को शुरू किया है। [यह भी पढ़ें- (फॉर्म) हरियाणा जन्म प्रमाण पत्र: ऑनलाइन फॉर्म, Haryana Birth Certificate Apply]

Overview of Mera Pani Meri Virasat Scheme

योजना का नाममेरा पानी मेरी विरासत योजना
वर्ष2022
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा
लाभार्थीप्रदेश के किसान भाई
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यधान के अतिरिक्त अन्य फसलों की बुवाई के लिए प्रोत्साहन
लाभ7 हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि
श्रेणीहरियाणा सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटwww.agriharyanaofwm.com/

Mera Pani Meri Virasat Yojana की विशेषताएं

  • इस योजना के माध्यम से राज्य में किसानो को धान की खेती के अतिरिक्त अन्य वैकल्पिक खेती के लिए प्रोत्साहित किया गया है।
  • हरियाणा को मनोहर लाल खट्टर सरकार द्वारा इसके तहत किसानो को आर्थिक सहायता राशि भी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के कार्यान्वयन के फलस्वरूप किसानो को उन सभी क्षेत्रों में जहा भूमिगत जल स्तर काफी नीचे अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा।
  • हरियाणा सरकार की मेरा पानी मेरी विरासत योजना के माध्यम से जल संरक्षण को बढ़ावा दिया जायेगा।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा अपने खेतो में अन्य वैकल्पिक फसलों की बुवाई किये जाने की स्थिति में  7000 रूपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन धनराशि प्रदान की जाएगी |
  • हरियाणा सरकार द्वारा चिन्हित किये गए 19 ब्लॉक के अतिरिक्त अन्य ब्लॉक के किसान भाई भी इस योजना के माध्यम से अनुदान के लिए आवेदन कर पाएंगे।
  • सभी किसानो को धान की बुवाई के अतिरिक्त मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास, सब्जी आदि की फसलों की बुवाई के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा।
  • कृषि विभाग के सहयोग से जल्द ही इस योजना के तहत आवेदन के लिए एक अलग पोर्टल को लांच किया जायेगा।
  • इस योजना के द्वारा किसानों को धान की खेती के अतिरिक्त अन्य फसलों की बुवाई के द्वारा आय में वृद्धि तथा भावी पीढ़ी के लिए पानी की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जा सकेगी।

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत मिलेंगे सात हजार प्रति एकड़

इस योजना के तहत कृषि निदेशक डॉ. जसविद्रा सैनी ने कहा कि Haryana Mera Pani Meri Virasat Scheme के तहत किसानों को धान के स्थान पर मक्का, कपास, दाल, सब्जियां और फलों जैसी वैकल्पिक फसलों के माध्यम से विविधता लाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। धान की खेती के कारण भूजल स्तर घट रहा है, जो आने वाले समय में जल विरासत को खतरे में डालेगा। उन्होंने बताया कि धान की फसल में 18 से 20 सिंचाई की आवश्यकता होती है जबकि मक्का में 4 से 5 सिंचाई की आवश्यकता होती है। धान के स्थान पर मक्का, खरीफ दालें और खरीफ तिलहन लगाने से 80 प्रतिशत तक पानी की बचत होती है। उन्होंने कहा कि पानी की विरासत को बचाने के लिए सरकार ने मेरा पानी मेरी विरासत योजना शुरू की है, जिसके तहत धान की जगह उपरोक्त फसलें उगाने वाले किसानों को सात हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। [यह भी पढ़ें- हरियाणा फ्री लैपटॉप योजना 2021: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, Free Laptop लाभार्थी सूची]

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत प्रोत्साहन

  • किसानों को पर्याप्त नमी के आधार पर उचित मूल्य देने के लिए, मक्का खरीद के दौरान, मंडियों में मक्का सुखाने के लिए मशीनें लगाई जाएंगी।
  • इस योजना के तहत जो किसान अपनी कुल भूमि के 50 प्रतिशत या इससे अधिक पर धान की जगह कपास/मक्का/बाजरा/सब्जियां/दाल आदि फसलें उगाते हैं, उन्हें 7,000/- रुपये प्रति एकड़ की राशि दी जाएगी। लेकिन यह राशि उन किसानों को ही दी जाएगी, जिन्होंने पिछले साल धान के रकबे (खरीफ 2019-20) के 50 फीसदी या इससे ज्यादा रकबे में फसल विविधीकरण को अपनाया है।
  • उक्त राशि के अतिरिक्त जिन किसानों ने धान के स्थान पर फलदार पौधों एवं सब्जियों की खेती कर फसल विविधीकरण को अपनाया है, उन्हें उद्यान विभाग द्वारा चलाई जा रही परियोजनाओं के प्रावधान के अनुसार अलग से अनुदान दिया जायेगा।
  • जिन ब्लॉक का भूजल स्तर 35 मीटर या उससे अधिक गहरा है और जहां पंचायती भूमि पर कपास/मक्का/बाजरा/सब्जियां/दाल के अलावा अन्य फसलें उगाई गई हैं, उनके लिए यह राशि 7,000/- रुपये प्रति एकड़ होगी। पंचायत दी जाएगी
  • सरकार इस योजना के तहत न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अपनाई गई फसलें जैसे बाजरा/मक्का/दालियां खरीदेगी।
  • किसानों को, 40 प्रतिशत अनुदान, बुवाई के लिए लक्षित ब्लॉकों में मक्का बुवाई मशीनों पर दिया जाएगा।
  • फसल विविधीकरण के तहत, सरकार द्वारा अपनाई गई फसल के बीमित राशि  का योग सरकार द्वारा दिया जाएगा।
  • लघु सिंचाई संयंत्र स्थापित करने के लिए, फसल विविधीकरण वाले किसानों को कुल लागत का केवल GST ही चुकाना होगा।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लाभ

  • हरियाणा सरकार द्वारा राज्य के किसानो को मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ दिया जाएगा, जिसके माध्यम से उन सभी को सहायता मिलगी।
  • इस योजना के तहत मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास और सब्जी की खेती की जाएगी, और इन फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाएगी।
  • इस योजना के तहत, किसानों को राज्य सरकार द्वारा प्रोत्साहन प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत मक्का और दालों की खेती में आवश्यक बुवाई आदि कृषि मशीनरी प्रदान करने के साथ, सूक्ष्म सिंचाई और ड्रिप सिंचाई के लिए 80 प्रतिशत अनुदान भी दिया जाएगा।
  • इस योजना के तहत किसानों को उन जगहों पर धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जहां पर पिछले साल धान की खेती नहीं हुई थी।
  • यदि किसान द्वारा फसल विविधीकरण के तहत फसल का बीमा कराया जाता है तो किसान के हिस्से की राशि का भुगतान सरकार द्वारा किया जाएगा।

Haryana Mera Pani Meri Virasat Scheme के पात्रता

  • इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए हरियाणा राज्य का स्थायी नागरिक होना चाहिए और उसके पास मूल पहचान प्रमाण होना चाहिए।
  • हरियाणा सरकार द्वारा 10 एकड़ से अधिक भूमि वाले लाभार्थी इस मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लिए पात्र नहीं होंगे।
  • इस योजना तहत लाभ पाने के लिए, हरियाणा सरकार द्वारा आवेदकों को अपना नाम ऑनलाइन दर्ज करना होगा।

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • कृषि योग्य भूमि के कागज़ात
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

हरियाणा युवा नौकरी प्रोत्साहन योजना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

आप नीचे दिए गए चरणों के के माध्यम से हरियाणा सरकार की मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत आवेदन कर के लाभ ले सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइ पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
मेरा पानी मेरी विरासत योजना
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “किसान पंजीकरण करे” विकल्प पर क्लिक कर देना है, इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जायेगा।
Mera Pani Meri Virasat Yojana
  • अब आपको इस पेज पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा, आपको इस फॉर्म में सभी पूछी गयी जानकारी जैसे की – योजना जिला , ब्लॉक , किसान का नाम , पिता या पति का नाम, माता का नाम मोबाइल नंबर आदि को दर्ज कर देना है।
  • आपके द्वारा सभी जानकारी दर्ज करने के बाद, अब आपको सम्बंधित दस्तावेजों को अटैच करके अपने द्वारा दर्ज जानकारी की जांच के करनी होगी।
  • सभी जानकारी की जांच करने के बाद आपको “Submit” के बटन पर क्लिक कर देना है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए आवेदन प्रक्रिया

यदि आप बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए आवेदन करना चाहते है तो आपको नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करना होगा :-

  • सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए विकल्प के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने फार्मर रजिस्ट्रेशन के लिए के फॉर्म खुल कर आ जायेगा।
  • अब आपको इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे की आधार नंबर , सामान्य विवरण , किसान का विवरण, टोटल लैंड होल्डिंग आदि को दर्ज कर देना है।
  • इसके बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है, और इस तरह आपकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में “फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करें” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जायेगा।
  • अब अपना आधार नंबर दर्ज करें।  इसके बाद एक पंजीकरण फॉर्म खुल कर आ जायेगा, इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी को दर्ज कर देना है और आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • आपके द्वारा सबमिट के बटन पर क्लिक करने के बाद, आपकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

रिचार्ज शाफ़्ट के लिए आवेदन की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में “रिचार्ज शाफ़्ट के लिए आवेदन करें” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल कर आ जायेगा।
  • आवेदन पत्र में मांगी गई जानकारी को ध्यानपूर्वक भरें जैसे, किसान का नाम, पिता का नाम, मोबाइल नं:, आधार नंबर इत्यादि।
  • अब सभी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है, और रिचार्ज शाफ़्ट के लिए आवेदन जमा करा देना है।

आधार कार्ड की कॉपी अपलोड करने की प्रक्रिया

यदि आवेदन के समय आपने आधार कार्ड की कॉपी अपलोड नहीं की है तो अभी आपको इसे अपलोड करने की आवश्यकता है।  इसके लिए निचे दी गयी प्रक्रिया को ध्यान से पढ़े।

  • सबसे पहले आपको कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “Upload copy of Aadhaar Card” विकल्प पर क्लिक कर देना है। इस विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जायेगा।
  • इस पेज पर आपको एक फॉर्म दिखाई देगा। इस फॉर्म में मांगी गयी जानकारी भरे और सर्च के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • आपके द्वारा सर्च के बटन पर क्लिक करने के बाद, आवेदक की जानकारी नीचे खुल कर आ जाएगी, इस जानकारी को जाँच ले और मांगी गयी सभी जानकारी दर्ज कर दे।
  • इसके बाद अपने आधार कार्ड की कॉपी को अपलोड कर दे और इसे सबमिट के बटन पर क्लिक कर दे।

Sprinkler irrigation system की सूची देखने की प्रक्रिया

आप स्प्रिंकलर सिंचाई प्रणाली देखने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करे।

  • सबसे पहले आपको कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “Check List of Sprinkler irrigation system. Click here to view” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आप पीडीऍफ़ फॉर्मेट में Sprinkler irrigation system की सूची देख  सकते है।

विक्रेता का चयन करने की प्रक्रिया

आप नीचे दिए गए आसान चरणों का पालन करके मेरा पानी मेरी विरासत योजना में विक्रेता का चयन कर सकते है।

  • सबसे पहले आपको कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “विक्रेता का चयन करे” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जायेगा।
  • इस पेज पर आपको एक फॉर्म दिखाई देगा, इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी ध्यानपूर्वक दर्ज कर देना है और सर्च के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • सर्च के बटन पर क्लिक करने के बाद, विक्रेताओं की जानकारी आपके सामने खुल कर आ जाएगी, इसमे से आप अपने विक्रेता का चयन कर सकते है।

Circular (2020 – 2021) देखने की प्रक्रिया

Circular (2020 – 2021) देखने के लिए नीचे दी गयी चरण दर चरण प्रक्रिया का पालन करे।

  • सबसे पहले आपको कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन भाग में “Circular (2020 – 2021)” के लिंक पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आ जायेगा।
  • इस पेज पर आपको Circular (2020 – 2021) की जानकारी पीडीऍफ़ फॉर्म में मिल जाएगी।

विभागीय लोगिन कैसे करें?

  • सबसे पहले आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में “विभागीय प्रवेश ” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुल कर आ जायेगा।
  • इस  फॉर्म पर आपको अपना यूजरनेम, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी देने के बाद आपको लॉगिन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस के बाद आप  विभागीय लॉगिन कर सकते है ।

Contact Us

अगर आप हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना से सम्बंधित किसी भी प्रकार की जानकारी अथवा समस्या के समाधान के लिए नीचे दिए गए नंबर पर क्लिक करे।

  • Agriculture and Farmers Welfare Department
  • Krishi Bhawan, Sector 21, Panchkula
  • E-mail: [email protected], [email protected]
  • Helpline Number: 1800-180-2117
  • Tel.: 0172-2571553, 2571544
  • Kisan Call Centre:18001801551
  • Fax: 0172-2563242

Leave a Comment