ई-जनगणना 2024 | ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, E- Census एप्लीकेशन फॉर्म, व Janganana List

ई-जनगणना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करे, E- Census Application Status देखे एवं लाभ तथा विशेषताएं जाने | E-Janganana List 2023 – देशवासियों के सुविधा एवं डिजिटलीकरण प्रक्रिया को प्रोत्साहन देने हेतु भारत सरकार द्वारा विभिन्न सेवाओं एवं प्रक्रियाओं को ऑनलाइन प्रारूप में उपलब्ध किया गया है। अब हाल ही में, केंद्र सरकार द्वारा E Janganana करने का निर्णय लिया गया है। ई-जनगणना 2023 के माध्यम से सरकार ने इस वित्तय वर्ष जनगणना की प्रक्रिया को डिजिटल माध्यम से करने की योजना बनाई है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से E- Census से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी, जैसे:- उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता मानदंड, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन करने की प्रक्रिया आदि के बारे में ज्ञान साँझा करेंगे। यदि आ भी इस पहल से जुड़ी सभी महत्त्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के इच्छुक है, तो हमारे साथ अंत तक अवश्य बने रहें। [यह भी पढ़ें- Rashtriya Poshan Maah 2023: 5वां राष्ट्रीय पोषण माह का उत्सव 1 से 30 सितंबर तक]

E- Census 2023 – ई-जनगणना अभियान

केंद्र सरकार ने जनगणना की प्रक्रिया को सरल एवं तीव्र बनाने हेतु प्रक्रिया को तकनीक से जोड़ कर डिजिटल माध्यम से E- Census शुरू करने का निश्चय किया है। आपको बता दे कि भारत में जनगणना प्रत्येक 10 वर्ष के समय अवधि पर की जाती है एवं अंतिम बार यह जनगणना वर्ष 2011 में की गई थी। सरकार द्वारा अगली जनगणना, वर्ष 2021 में की जानी थी परंतु कोरोना महामारी की गंभीर स्थिति को देखते हुए इस प्रक्रिया को पोस्पोन कर दिया गया था। आसाम में डायरेक्टरेट ऑफ सेंसस ऑपरेशन बिल्डिंग का उद्घाटन करते वक्त, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जी ने ई जनगणना शुरू किये जाने की घोषणा की है। इस कार्यक्रम के तहत सरकार द्वारा वर्ष 2024 तक प्रत्येक जन्म एवं मृत्यु को जनगणना से जोड़ दिया जाएगा, जिससे जनगणना कार्य ऑटोमेटिक तरीके से अपडेट हो जाएगा। [यह भी पढ़ें- (Toll Free) प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना हेल्पलाइन नंबर | Ujjwala Helpline 24×7 नंबर]

  • केंद्रीय गृहमंत्री माननीय अमित शाह जी द्वारा घोषित E Janganana पहल के अंतर्गत डिजिटल माध्यम से जनगणना करने हेतु एक सॉफ्टवेयर भी लॉन्च किये जाने की योजना बनायीं गयी है। 
  • इस पहल के तहत ऑनलाइन प्रारूप में जनगणना करने से सरकार आने वाले अगले 25 वर्षों के लिए उचित नीतियाँ बनाने में सक्षम हो सकेगी। 
  • इसके साथ ही, सरकार इस डिजिटल जनगणना प्रक्रिया के कार्यों में विभिन्न सरकारी विभागों से सहायता भी लेगी।  
  • इसके अतिरिक्त, इस पहल के तहत लॉन्च किये जाने वाले मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से कुल आबादी के लगभग 50% नागरिक स्वयं अपने स्मार्टफोन की सहायता से कुछ प्रश्नों के उत्तर दे कर जनगणना कर सकेंगे। 
ई-जनगणना 2022-23

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की योजनाएं

Overview of E Janganana Scheme

नामई जनगणना
आरम्भ की गईगृहमंत्री माननीय अमित शाह द्वारा
वर्ष2023
लाभार्थीदेश के सभी नागरिक
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन/ऑफलाइन
उद्देश्यडिजिटल माध्यम से जनगणना करने हेतु 
लाभऑनलाइन सुविधा 
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं 
आधिकारिक वेबसाइटcensusindia.gov.in

ई जनगणना का उद्देश्य

भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी E Janganana एक प्रकार की ऑनलाइन पहल है, जिसका मुख्य उद्देश्य डिजिटल माध्यम से जनगणना करते हुए जनगणना प्रक्रिया को सरल बनाना है। पहले जनगणना करने हेतु सरकारी कर्मचारियों को घर-घर जाना पड़ता था, परंतु अब ई जनगणना स्कीम के सुचारु संचालन के माध्यम से उन्हें इससे छुटकारा मिलेगा। अब देशवासी स्वयं अपने स्मार्टफोन के माध्यम से जनगणना कर सकेंगे, जिससे समय एवं पैसे दोनों की बचत होगी तथा प्रणाली में पारदर्शिता भी आएगी। इस पहल के माध्यम से नागरिकों के जीवन स्तर में भी सुधार आएगा एवं सरकार आगामी 25 वर्षों के लिए नीतियाँ भी बना सकेंगी। [यह भी पढ़ें- Stand Up India Loan Scheme 2023: Apply Online, Login & Application Status]

ई-जनगणना 2023 के लाभ एवं विशेषताएं 

  • आसाम में डायरेक्टरेट ऑफ सेंसस ऑपरेशन बिल्डिंग के उद्घाटन समारोह में, केंद्रीय गृहमंत्री माननीय अमित शाह जी ने E- Census शुरू करने की घोषणा की है। 
  • केंद्र सरकार अब जनगणना प्रक्रिया को तकनीक से जोड़ कर डिजिटल माध्यम से संचालित करने की योजना बना रही है। इस पहल के सुचारु संचालन हेतु सरकार द्वारा एक सॉफ्टवेयर लॉन्च किया जाएगा।
  • इसके साथ ही, जनगणना के कार्य को ऑटोमेटिक तरीके से अपडेट करने हेतु सरकार द्वारा वर्ष 2024 तक देश में होने वाले प्रत्येक जन्म एवं मृत्यु को जनगणना से जोड़ दिया जाएगा। 
  • ई जनगणना स्कीम के अंतर्गत डिजिटल प्रारूप में जनगणना करने से सरकार आगामी 25 वर्षों तक के लिए आवश्यक नीतियों का निर्माण कर सकेगी। 
  • इसके अतिरिक्त, इस कार्यक्रम के तहत सरकार द्वारा विभिन्न सरकारी विभागों से जनगणना के कार्यों हेतु सहायता ली जाएगी। 
  • सरकार ने इस पहल के तहत एक मोबाइल एप्लीकेशन लॉन्च करने की योजना भी बनायीं है, जिसके माध्यम से देश के लगभग 50% नागरिक स्वयं अपने स्मार्टफोन के माध्यम से प्रश्नों के उत्तर दे कर जनगणना की प्रक्रिया को सरल बना सकेंगे। 
  • ई जनगणना प्रक्रिया के आरंभ होने से पूर्व सरकारी कर्मचारियों को जनगणना करने के लिए घर-घर जाना पड़ता था, जिससे अब उन्हें छुटकारा मिलेगा। इससे समय एवं पैसे दोनों की बचत होगी तथा प्रणाली में पारदर्शिता भी आएगी। 

E- Census पात्रता मानदंड 

किसी भी सरकारी पहल अथवा कार्यक्रम के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को उठाने के लिए उम्मीदवारों को उस योजना से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पात्रता मानदंडों को पूरा करना आवश्यक होता है। इसी प्रकार, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई E- Census के लाभ प्राप्त करने हेतु उम्मीदवारों को केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित निम्न पात्रता मानदंडों पर खरा उतरना अनिवार्य होगा:-

  • ई जनगणना स्कीम के अंतर्गत आवेदन करने हेतु आवेदक को भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए। 
  • इसके साथ ही, इस पहल के तहत देश के अभी वर्ग एवं समुदाय के नागरिक आवेदन करने के पात्र होंगे। 

आवश्यक दस्तावेज 

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी 

ई-जनगणना 2023 के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया 

देश के ऐसे इच्छुक नागरिक जो केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी E Janganana पहल के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को प्राप्त करने हेतु आवेदन करना चाहते है, उन्हें अभी कुछ समय प्रतीक्षा करनी होगी। आपको बता दें कि अभी भारत सरकार द्वारा केवल इस पहल की घोषणा की गयी है। वर्तमान समय में इस कार्यक्रम से संबंधित किसी भी प्रकार की आधिकारिक सूचना प्रदान नहीं की गयी है। सरकार अथवा संबंधित विभाग द्वारा जैसे ही इस कार्यक्रम से जुड़ी कोई भी अधिसूचना जारी की जाती है, वैसे ही हम आपको अपने लेख के माध्यम से अवश्य सूचित करेंगे तो हमारे साथ अवश्य जुड़े रहें। [यह भी पढ़ें- (डाउनलोड) जीवन प्रमाण पत्र: jeevanpramaan.gov.in पेंशनर्स लाइफ सर्टिफिकेट]

Leave a Comment