स्वच्छ सर्वेक्षण 2024 | Swachh Survekshan Ranking List, लाभ व जानकारी

Swachh Survekshan 2021-22 | स्वच्छ सर्वेक्षण क्या है | स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 का आरम्भ | Swachh Survekshan 2021-22 Ranking List

स्वच्छ भारत मिशन के तहत केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी जी और केंद्र सरकार ने स्वच्छ सर्वेक्षण की शुरुआत की है। इस Swachh Survekshan के तहत इस साल की कवायद अपशिष्ट जल निपटान और अन्य मापदंडों पर केंद्रित होगी। आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के मुताबिक स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के तहत राज्यों की रैंकिंग भी घोषित की जाएगी। व्यवहार परिवर्तन को बनाए रखने पर ध्यान देने के साथ प्रक्रिया को और अधिक मजबूत बनाने के लिए हर साल Swachh Survekshan का नवाचार किया जाता है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Swachh Survekshan 2023 के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं, इसलिए हमारे लेख को अंत तक ध्यान से पढ़ें। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) ई-श्रम पोर्टल 2023: eshram.gov.in, श्रमिक कार्ड ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व लॉगिन]

स्वच्छ सर्वेक्षण 2023

इस वर्ष स्वच्छ सर्वेक्षण का छठा संस्करण है। इस वर्ष केंद्र सरकार द्वारा प्रेरक दाउर सम्मान नाम से एक नई श्रेणी के पुरस्कार की भी घोषणा की गई है। इस पुरस्कार के तहत, पांच अतिरिक्त उप श्रेणियां – दिव्या (प्लैटिनम), अनुपम (स्वर्ण), उज्जवल (रजत), उदित (कांस्य), आरोही (एस्पायरिंग) हैं। इस Swachh Survekshan के तहत हर साल नए आयामों को शामिल किया जाता है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 में इस साल भी नए आयाम शामिल किए गए हैं। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरीजी का कहना है कि ‘पिछले साल की तरह स्वच्छता कड़ी की निरंतरता सुनिश्चित करने की दिशा’ मंत्रालय के प्रयासों के तहत Swachh Survekshan 2023 के संकेतक अपशिष्ट जल के निपटान और इसे फिर से उपयोग करने योग्य बनाने पर ध्यान केंद्रित करेगा। [यह भी पढ़ें- किसान सम्मान निधि योजना लिस्ट 2023: pmkisan.gov.in List, पीएम किसान किस्त कैसे देखें]

स्वच्छ सर्वेक्षण

PM Modi Schemes

उच्च शिक्षा के तहत अल संस्थानों के लिए स्वछता रैंकिंग पुरस्कार

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के इस मिशन स्वच्छता ने एक स्वच्छ और शुद्ध सोच वाले भारत में योगदान दिया है, जिसमें हर शैक्षणिक संस्थान शामिल है, उन्हें न केवल परिसर को साफ करने के लिए बल्कि गांव की स्वच्छता के लिए भी प्रोत्साहित किया है। उच्च शिक्षा विभाग के माध्यम से स्वच्छ शिक्षा के लिए उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच स्वस्थ सहकर्मी दबाव उत्पन्न करने के लिए स्वच्छता रैंकिंग अभ्यास आरम्भ करा गया है। इस वर्ष 2017 की तुलना में 2018 वर्ष की रैंकिंग को शैक्षणिक संस्थानों से दोहरी प्रतिक्रिया मिली है और 6000 से अधिक संस्थानों ने भाग लिया है। वर्षा जल संचयन, सौर ऊर्जा, छात्रावास के रसोई उपकरण की गुणवत्ता, जल आपूर्ति प्रणाली की गुणवत्ता, रखरखाव विधि परिष्कार आदि जैसे पहलुओं को शामिल करने के लिए मापदंडों को और अधिक वैज्ञानिक बनाया गया है, ताकि छात्रों के सीखने के लिए वातावरण स्वच्छ हो और उच्च स्तर पर बढ़ जाएं। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) PM-WANI Yojana: PM Free WIFI Scheme, ऑनलाइन पंजीकरण]

Overview of Swachh Survekshan

नामस्वच्छ सर्वेक्षण 2023
आरम्भ की गईप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा
वर्ष2023
लाभार्थीदेश के सभी नागरिक
आवेदन की प्रक्रिया———-
उद्देश्यदेश को स्वच्छ बनाने हेतु नागरिकों को प्रेरित करना
लाभदेश की स्वच्छता
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटwww.swachhsurvekshan2021.org/

प्रधानमंत्री श्रमिक सेतु पोर्टल

स्वच्छ सर्वेक्षण का उद्देश्य

देश भर में आज भी बहुत से ऐसे शहर और कस्बे हैं, जहां साफ-सफाई का उचित ध्यान नहीं दिया जाता, जिससे देश में बीमारियां बढ़ती जा रही हैं। इसी समस्या को देखते हुए केंद्र सरकार स्वच्छ भारत अभियान के तहत Swachh Survekshan की शुरुआत करेगी। इस स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के तहत गीले, सूखे और खतरनाक कचरे का पृथक्करण, गीले कचरे के निपटान की प्रक्रिया, गीले और सूखे कचरे का निपटान और पुनर्चक्रण, निर्माण मलबे का निपटान, साइट पर डंप किए गए कचरे की मात्रा और शहरों की सफाई की स्थिति को ध्यान में रखा जायेगा, ताकि देश को स्वच्छ रखा जा सके। मंत्रालय ने कहा कि “1.87 करोड़ नागरिकों ने ‘Swachh Survekshan 2020’ में भाग लिया था। Swachh Survekshan 2023 के माध्यम से इस वर्ष भी अपने शहर को स्वच्छ बनाने में निगम को पूरा सहयोग देना होगा”। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) Pradhan Mantri Solar Panel Yojana 2023: फ्री सोलर पैनल योजना आवेदन]

Swachh Survekshan 2023 के तहत कार्य

  • नदियों या जल को स्वच्छ रखना
  • शौचालयों का निर्माण
  • प्लास्टिक के प्रयोग पर प्रतिबंध
  • शहरों तथा गांवों में सफाई रखना
  • नगरों तथा महानगरों में कूड़ेदान की व्यवस्था
  • Garbage Free City
  • Recycle Waste Materiel

गोबर-धन योजना

Swachh Survekshan 2023 के लाभ एवं विशेषताएं

  • देश भर के सभी शहरों और कस्बों में स्वच्छ भारत सर्वेक्षण किया जाएगा।
  • स्वच्छ सर्वेक्षण कचरा मुक्त और खुले में शौच मुक्त शहरों पर केंद्रित होगा।
  • संकेतक अपशिष्ट जल उपचार से संबंधित मापदंडों में भी Swachh Survekshan के तहत सुधार किया जाएगा।
  • स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 नागरिक जुड़ाव पर केंद्रित रहा है। इस वर्ष, नागरिकों के रूप में नागरिक केंद्रित फोकस में काफी वृद्धि हुई है और उनके योगदान को शहर के ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के नेतृत्व में नवाचारों के लिए अंक आवंटित किए जाएंगे।
  • पिछले तीन वर्षों से Swachh Survekshan 2023 को पूरी तरह से डिजिटल कर दिया गया है। स्वच्छ भारत मिशन में अब 15 इन-हाउस और 10 थर्ड पार्टी एप्लिकेशन हैं जिन्हें विकसित किया गया है और वर्तमान में स्वच्छ भारत मिशन के लिए चल रहे हैं।
  • लगभग 1.87 करोड़ नागरिकों ने Swachh Survekshan 2020 में  भाग लिया था। साल 2018 का Swachh Survekshan दुनिया का सबसे बड़ा सर्वेक्षण था, जिसमे 4203 शहरों को स्थान दिया गया।
  • स्वच्छ सर्वेक्षण 2019, में न केवल 4,237 शहरों को कवर किया गया, बल्कि 28 दिनों के रिकॉर्ड समय में पूरी तरह से इस डिजिटल सर्वेक्षण भी पूरा किया।

स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 मुख्य बिंदु

  • स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के अंतर्गत देश के सभी राज्यों के जिलों का सर्वे किया जाएगा।
  • यह एक प्रकार का स्वच्छता का एक सर्वेक्षण है जिसमें उन्हें स्वच्छता के मानकों के अनुसार स्थान दिया जाएगा।
  • स्वच्छ सर्वेक्षण में स्वच्छता के आधार पर शहरों की रैंकिंग की जाएगी।
  • Swachh Survekshan की रैंकिंग में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले शहरों को स्वच्छ शहर की श्रेणी के तहत पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।
  • सर्वे मोटिवेशनल रेस के तहत इस Swachh Survekshan को श्रेणीवार पुरस्कृत किया जाएगा।
  • इसके अलावा स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 में राज्य या जिलों को मिले फीडबैक का भी आकलन किया जाएगा।
  • जिन शहरों में फीडबैक की संख्या अधिक होगी, वे जिले भी सर्वेक्षण के तहत पुरस्कार के लिए पात्र माने जाएंगे।
  • स्वच्छता सर्वेक्षण में ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों का सर्वेक्षण किया जाएगा।
  • आप इस Swachh Survekshan 2023 के तहत किए गए सर्वेक्षणों की रिपोर्ट ऑनलाइन भी देख सकते हैं।

Swachh Survekshan Urban

स्वच्छ सर्वेक्षण जनवरी 2016 में शुरू किया गया था जिसमें देश के लगभग 73 जिलों का मूल्यांकन किया गया था। इस सर्वे में इंदौर को सबसे स्वच्छ जिले का खिताब दिया गया। सर्वेक्षण को तीन श्रेणियों में बांटा गया था:

  • सेवा स्तर की स्थिति
  • स्वतंत्र अवलोकन
  • नागरिक प्रतिक्रिया

स्वच्छ सर्वेक्षण शहरी के लक्ष्य

  • खुले में शौच मुक्त शहर
  • ठोस कचरा निपटान
  • डोर टू डोर सफाई
  • व्यक्तिगत शौचालय
  • संचार द्वारा स्वच्छता का प्रचार
  • सार्वजनिक एवं सामुदायिक शौचालय

Swachh Survekshan Rural

यह मिशन 2016 में पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था। स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 में लगभग 22 पहाड़ी जिलों और 53 मैदानी जिलों को सर्वेक्षण के लिए चुना गया था। जिसमें अधिकतम जल स्वच्छता व शौचालय निर्माण को सर्वे के दायरे में रखा गया।

स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण के लक्ष्य

  • ग्रामीणों के लिए स्वच्छ शौचालय और उनका उपयोग
  • जल पहुंच, जल सुरक्षा 40 प्रतिशत
  • 30 प्रतिशत बाहरी कचरा निपटान
  • 10 प्रतिशत सार्वजनिक कचरा निस्तारण
  • घर के आसपास दूषित पानी जमा न हो 20 प्रतिशत

प्रेरक दाउर सम्मान

प्रेरक दाउर सम्मान की 5 अतिरिक्त उपश्रेणियाँ हैं जो नीचे दी गयी है:

  • दिव्या (प्लेटिनम)
  • अनुपम (स्वर्ण)
  • उज्जवल (रजत)
  • उदित (कांस्य)
  • आरोही (आकांक्षी)

उपरोक्त प्रत्येक श्रेणी में, शीर्ष 3 शहरों को मान्यता दी जाएगी जो प्रेरक दाउर सम्मान के लिए पात्र होंगे

COVID Vaccine Certificate Download

स्वच्छ सर्वेक्षण के तहत शहर संकेतकों का वर्गीकरण

सर्वेक्षण 6 संकेतक-वार प्रदर्शन मानदंडों के आधार पर शहरों को वर्गीकृत करेगा, जिसका विवरण हमने नीचे दिया है। इसकी विस्तारपूर्वक जानकारी देखे और देश की स्वच्छता में अपना हिस्सा दें।

  • गीले, सूखे और खतरनाक श्रेणियों में कचरे का पृथक्करण।
  • उत्पन्न गीले कचरे के खिलाफ प्रसंस्करण क्षमता।
  • गीले और सूखे कचरे का प्रसंस्करण और पुनर्चक्रण।
  • निर्माण और विध्वंस (सी एंड डी) अपशिष्ट प्रसंस्करण।
  • लैंडफिल में जाने वाले कचरे का प्रतिशत।
  • शहरों की स्वच्छता की स्थिति। 

Important Link

Leave a Comment