UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021: ई-क्रय प्रणाली, eproc.up.gov.in

उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण ऑनलाइन । UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण | eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली पोर्टल | गेहू खरीद किसान ऑनलाइन आवेदन

UP सरकार ने हमारे देश के किसानों के लिए Uttar Pradesh Gehu Kharid Online Registration को आरम्भ किया है। इसके द्वारा हमारे देश के किसान अपनी फसल बेच ताथा गेहूं खरीद जैसी सुविधाएं ऑनलाइन उपलब्ध करा सकते है। हमारे देश के किसानो को इस वेबसाइट पर पहले अपना पंजीकरण करवाना बहुत जरूरी है और पंजीकरण करवाने के बाद किसान अपनी रबी की फसल को सही दामों पर बेच सकते हैं और लाभ ले सकते हैं। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के द्वारा UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021 से जुड़ी सभी जानकारी देने जा रहे हैं जैसे की इसके लाभ क्या है इसमें उपलब्ध सुविधाएं कौन-कौन सी हैं, मुख्य उदेश्य क्या है और आवेदन की प्रक्रिया क्या है। गेहू खरीद पोर्टल से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप से अनुरोध है कि आप हमारे इस आर्टिकल को ध्यान से पूरा पढ़े। 

उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली

UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021: हमारे देश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा गेहूं खरीद का निर्देश शुरू कर दिया गया है मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि क्रय केंद्र पर किसानों को कुछ भी परेशानी नहीं होनी चाहिए तथा हमारे देश की सरकार ने इसके लिए बहुत जगह गेहूं की सुरक्षा के लिए बहुत इंतजाम कराये हैं। CM द्वारा कहा गया है कि पिछले साल की तुलना में इस साल 50 रुपये की बढ़ोतरी करि जाएगी और इस बढ़ोतरी के बाद गेहूं का सही मूल्य 1975 क्विंटल कर दिया गया है इससे किसानों की आय अधिक होगी और वह एमएसपी का लाभ भी ले सकेंगे। हमारे देश के जो भी किसान अपनी फसल को बेचना चाहते हैं तो उन ई क्रय प्रणाली के ऑफिसियल पोर्टल पर जाना होगा और वहां पर जाकर उन्हें अपना पंजीकरण करा सकते हैं तथा Uttar Pradesh Gehu Kharid Online Registration का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण

किसान सम्मान निधि योजना लिस्ट 2021

यूपी गेहूं खरीद के मुख्य तथ्य

योजना का नामयूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
किसके द्वारा शुरू कि गईउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
विभागकृषि विभाग
योजना का उद्देश्यकिसानों की फसलें समय से बेच कर लाभ प्राप्त करना
योजना का लाभकिसान ऑनलाइन माध्यम से अपनी फसल बेच सकते हैं
लाभार्थीराज्य के किसान
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन आवेदन
अधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें

एमएसपी पर 1 अप्रैल से शुरू होगी गेहूं की खरीद

उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि एक अप्रैल से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर गेहूं की खरीद की जाएगी। 15 जून तक सरकार के निर्देशानुसार यह सीधे किसानों से गेहूं खरीदेगा। यह खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य 1,975 रुपये प्रति क्विंटल गेहूं पर होगी। उत्तर प्रदेश के खाद्य आयुक्त मनीष चौहान ने कहा कि इस साल गेहूं का समर्थन मूल्य 1,975 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। गेहूं की बिक्री के लिए, किसानों को खाद्य और रसद विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण करना आवश्यक है, जिसे लॉन्च किया गया है। किसान खुद को या साइबर कैफे और सार्वजनिक सुविधा केंद्रों के माध्यम से पंजीकृत कर सकते हैं।

गेहूं खरीद में सुनिश्चित की जाएगी पारदर्शिता

प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद वीणा कुमारी जी द्वारा प्रस्तावित खरीद नीति के संबंध में एक प्रस्तुति दी गई। इस प्रस्तुति में, मुख्यमंत्री द्वारा विभिन्न प्रकार के सुझाव प्रस्तुत किए गए। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार के उपकरण जैसे नमी मापने के उपकरण, डबल मेश स्पिल, इलेक्ट्रॉनिक कांटा आदि को क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाना चाहिए। इन सभी उपकरणों को 10 मार्च तक क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि इस वर्ष ई-पॉप मशीनों के माध्यम से बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से गेहूं खरीदने की व्यवस्था की जाएगी। यह प्रणाली पारदर्शिता पैदा करेगी। इस वर्ष गेहूं की खरीद भी की जाएगी।

यूपी गेहूं खरीद अप्रैल 2021 से होगी शुरू

29 जनवरी 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गेहूं खरीदने का निर्देश दिया। यह गेहूं खरीद 1 अप्रैल, 2021 से शुरू की जाएगी। गेहूं खरीद के तहत, किसानों को किसी भी क्रय केंद्र पर कोई समस्या नहीं होगी। भंडारण गोदामों और क्रय केंद्रों में गेहूं की सुरक्षा के लिए सभी इंतजाम किए जाएंगे। इस वर्ष गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रुपये की वृद्धि की गई है। अब गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाकर रु। 1975 प्रति क्विंटल। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा समय सारिणी और प्रस्तावित क्रय नीति के अधिकारियों के साथ गेहूं खरीद 2021-2022 को लेकर एक बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में, मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि जल्द ही, गन्ना किसानों की तरह गेहूं किसानों को ऑनलाइन पर्ची सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिन एजेंसियों का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है, उन्हें काम नहीं दिया जाएगा। टैगिंग सभी क्रय केंद्रों और भंडारण गोदामों पर की जाएगी, जिससे किसानों को लाभ होगा।

किसान कर सकेंगे अपील

उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि यदि केंद्र प्रभारी के माध्यम से किसान का गेहूं खारिज कर दिया जाता है, तो किसान तहसील स्तर पर काम करने वाले क्षेत्रीय विपणन अधिकारी की बैठक में गठित समिति के समक्ष अपील कर सकता है। उन्होंने बताया कि यदि गेहूं की मात्रा 100 क्विंटल से अधिक है, तो फार्म के तहत गांव और शेयर मजदूरों का सत्यापन उप जिला मजिस्ट्रेट के माध्यम से किया जाएगा। यदि किसान सीलिंग अधिनियम के माध्यम से निर्धारित सीमा से अधिक भूमि पर गेहूं की बिक्री के लिए पंजीकरण करता है, तो जिला मजिस्ट्रेट की प्रविष्टि में एक समिति इसे सत्यापित कर दिया जाएगा।

यूपी गेहूं खरीद का उद्देश्य

हमारे देश के किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए बहुत परेशानिया उठानी पड़ती है और ऐसी स्थिति में किसानो की फसल का समय खत्म हो जाता है इन परेशनियो को ध्यान देते हुए हमारे देश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा UP Gehu Kharid Portal को शुरू किया गया है इस के अंतगर्त हमारे देश के किसान अपनी फसल बहुत आसानी से खरीद व बेच सकते है। Gehu Kharid Portal के अंतगर्त किसान अपना जीवन ठीक से यापन कर सकेंगे और  मिलने वाले पैसे सीधे नागरिको के बैंक अकाउंट में भेज दिए जायेगे।

प्रधान मंत्री की अन्य सरकारी योजनाएँ :-

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा दिशा निर्देश

  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा पारदर्शिता के लिए हिपहॉप मशीन के द्वारा बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन शुरू किया गया है।
  • अब से क्रय केंद्र पर गेहूं खरीद की व्यवस्था बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन से की जाएगी।
  • इस साल बटाईदारों से भी गेहूं खरीद सकते है। 
  • हमारे देश के किसानों की मदद के लिए क्रय केंद्रों के पथ प्रदर्शन चिन्ह लगाए जाएंगे।
  • ग्राम पंचायतों में क्रय केंद्रों की जानकारी वाली वोल पेंटिंग कराई जाएगी।

क्रय प्रणाली के लाभ एवं विशेषताएं

  • यूपी गेहूं खरीद पोर्टल को माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा आरम्भ किया गया है।
  • पोर्टल का उपयोग करके हमारे देश के किसान अपनी फसल को बहुत आसानी से खरीद व बेच सकते है।
  • मंडियों में अपनी फसल ले जाने से पहले सभी किसानों को ऊपर जन वेबसाइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराकर टोकन लेना होगा। 
  • पिछले साल की तुलना में इस साल गेहूं खरीद का न्यूनतम समर्थन मूल्य 50 रुपये से बढ़ाकर 1975 रुपये कर दिया है।
  • ई क्रय प्रणाली पर किसानों को ऑनलाइन पर्ची सहायता भी दी जाएगी इसके द्वारा वह क्रय केंद्रों के रिकॉर्ड रख सकेंगे।
  • भंडारण गोदाम सहित सभी क्रय केंद्रों के जियो टैगिंग की जाएगी इसके द्वारा वह अपने रिकॉर्ड अच्छे रख सकते है। 

UP Kisan Karj Rahat List 2021

  • यूपी गेहूं खरीद पोर्टल पर ही पॉप मशीनों के अंतगर्त बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद के लिए शुरू कर दिए गए है।
  • UP Gehu Kharid Portal की इस सुविधा को और पारदर्शी बनाने के लिए केंद्रों के लिए पद प्रदर्शन चेंज लगाए जाने की सहायता दी जाएगी।
  • अधिकारियों द्वारा के केंद्रों पर अप्रैल- मई के गर्मियों के टाइम में छाजन पेयजल तथा बैठने की सहायता प्रदान की जाएगी। 

यूपी गेहूं खरीद पोर्टल आवेदन के लिए पात्रता एवं दस्तावेज

  • किसानों को अपनी जमीन से संबंधित जानकारी जैसे खसरा खतौनी खसरा संख्या तथा जमीन का रखवा देना अनिवार्य है
  • खेत का राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी देनी अनिवार्य है
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • मोबाइल नंबर

UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021 ?

इच्छुक लाभार्थी जो इस ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण करना चाहते हैं, उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना चाहिए।

  • सबसे पहले, आवेदक को UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद, होम पेज आपके सामने खुल जाएगा।
UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021
UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान
  • विकल्प पर क्लिक करने के बाद, कंप्यूटर स्क्रीन पर अगला पेज आपके सामने खुल जाएगा। इसके बाद इस पेज पर 6 स्टेप खुलेंगे, जिन्हें आपको एक के बाद एक भरना है।
  • सबसे पहले आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर क्लिक करना होगा। क्लिक करने के बाद, अगले पेज पर आपके सामने किसान पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा।
  • जहां आपको अपना मोबाइल नंबर और captcha code भरना है। इसके बाद, आपको आगे बढ़ने वाले बटन पर क्लिक करना होगा।
  • जिसके बाद किसान रबी की फसल (गेहूं खरीद) के लिए ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म खोलेगा। इस पंजीकरण फॉर्म में आपको किसान का नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जिला आदि सभी जानकारी भरनी होगी।
  • सभी जानकारी भरने के बाद, आपको “रजिस्टर” बटन पर क्लिक करना होगा।

Leave a Comment