(upbocw.in) यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, स्टेटस चेक

UP Shram Vibhag Yojana List ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन upbocw.in | यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, स्टेटस चेक – उत्तर प्रदेश के श्रमिकों को कई अन्य तरह की योजनाओं का लाभ व सहायता देने के लिए राज्य सरकार ने UP Shram Vibhag Yojana List 2024 को ऑनलाइन जारी कर दिया है, राज्य सरकार द्वारा लिस्ट को ऑनलाइन जारी करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि राज्य के वे सभी श्रमिक मजदूर जो जानकारी के अभाव में कई योजनाओं का लाभ नहीं ले पाते हैं, अब उन सभी को सभी योजनाओं को एक ही स्थान पर लाभ प्रदान किया जाएगा। उत्तर प्रदेश राज्य के श्रमिक अब यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट के द्वारा कई अन्य तरह की योजनाओं का लाभ ले सकते है, जो भी नागरिक UP Shram Vibhag Yojana List के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते है उन्हें आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना आवेदन करना होगा। [यह भी पढ़ें- यूपी फ्री लैपटॉप योजना: UP Laptop Scheme, ऑनलाइन आवेदन]

Table of Contents

UP Shram Vibhag Yojana List 2024

राज्य सरकार द्वारा ये योजनाएं राज्य के श्रमिक मजदूरों को लाभ पहुंचाने के लिए शुरू की गई हैं। इन योजनाओं के द्वारा राज्य के श्रमिक मजदूरों को कई अन्य योजनाओं का लाभ दिया जाएगा, ताकि उन सभी को किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। यह योजना राज्य के श्रमिक व्यक्तियों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई है। UP Shram Vibhag Yojana List के तहत उपलब्ध अन्य तरह की योजनाओं के द्वारा राज्य के श्रमिकों को बहुत लाभ दिया जाएगा और वे अपना जीवन अच्छे से जी सकेंगे। यदि आप राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई UP Shram Vibhag Yojana List के तहत लाभ लेना चाहते है तो आपको हमारे इस लेख को पूरा पढ़ना होगा क्योकि आज हमने अपने इस आर्टिकल में यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024 से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है। [यह भी पढ़ें- (Abhyudaya Yojana) मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना: यूपी नि:शुल्क कोचिंग रजिस्ट्रेशन]

यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट

Overview of UP Shram Vibhag Yojana List

योजना का नामयूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट
वर्ष2024
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा
लाभार्थीराज्य के लोग
पंजीकरण प्रक्रियाऑनलाइन तथा ऑफलाइन
उद्देश्यसभी श्रमिकों तक विभिन्न योजनाओं का लाभ पहुंचाना
श्रेणीउत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटhttps://upbocw.in/index.aspx

यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024 का उदेश्य

हम सभी लोग जानते हैं कि हमारे देश के श्रमिकों को अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट जारी कर दी है। राज्य सरकार ने इन सभी योजनाओं को जारी करने का मुख्य उद्देश्य यह बताया है की राज्य के श्रमिकों को उनके जीवन स्तर को बढ़ाने के लिए कई नए तरह की योजनाओं से लाभ मिलेगा और इसके द्वारा उन सभी को किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े और वे अपने परिवार को कई अन्य तरह के लाभ प्रदान कर सकें। राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई UP Shram Vibhag Yojana List 2024 मुख्य उद्देश्य यह भी है की राज्य के श्रमिकों की आय में वृद्धि की जाए, ताकि राज्य का कोई भी श्रमिक सरकार के माध्यम से शुरू की गई गरीबो सहायता प्रदान करने के लिए योजना से वंचित न रहे। [यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश विवाह/शादी अनुदान योजना: UP Shadi Anudan Yojana, ऑनलाइन आवेदन]

यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024 के अंतर्गत सम्मलित योजनाओं के प्रकार

उत्तर प्रदेश सरकार के श्रम विभाग द्वारा दिहाड़ी मजदूर के उत्थान के लिए शुरू की गई कुछ योजनाओं की जानकारी इस प्रकार है : –

कौशल विकास, तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजना

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य के श्रमिकों को उनके कार्य कौशल को विकसित करने हेतु निःशुल्क प्रशिक्षण की सुविधा प्रदान की जाती है। राज्य सरकार की इस योजना के तहत यदि पंजीकृत श्रमिक स्वयं प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा हो तो इस स्थिति में उसे अकुशल श्रमिक के न्यूनतम वेतन के समतुल्य धनराशि की प्रतिपोषक की जाती है। लाभार्थी श्रमिकों द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त कर लेने के बाद उन्हें मूल्यांकन परीक्षा में उत्तीर्ण होना अति आवश्यक होगा। इस योजना के लाभ प्राप्त करने हेतु केवल ऐसे श्रमिकों को ही पात्र समझा जायेगा, जिनकी आयु 18 वर्ष से लेकर 35 वर्ष के बीच है। इसके साथ ही इस योजना का लाभ आवेदक को स्वयं अथवा उसके पति/पत्नी या पिता के पंजीकृत होने पर तथा अंशदान अद्यतन जमा करने पर ही प्रदान किया जायेगा। [यह भी पढ़ें- (prernaup.in) प्रेरणा पोर्टल यूपी | Mission Prerna Portal Login, Registration]

मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य की महिला श्रमिकों को प्रसव की दशा में समरूप एवं वित्तीय सहायता उपलब्ध की जाती है। लाभार्थी महिला श्रमिक इस योजना का लाभ केवल दो प्रसव तक ही प्राप्त कर सकती है। राज्य सरकार की इस योजना के लाभ महिला श्रमिकों को केवल संस्थागत प्रसव की परिस्थिति में ही प्रदान की जाएगी। यदि श्रमिकों की पहली एवं दूसरी, दोनों संतान कन्या है तो इस स्थिति में भी महिला श्रमिकों को मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना से सम्बंधित लाभ प्रदान किये जाते है। इसके साथ ही श्रमिक निःसंतान दंपति द्वारा बालिकाओं को गोद लेने की दशा में भी इस योजना का लाभ प्रदान किया जाता है। इस योजना के तहत महिला श्रमिकों के गर्भपात होने एवं पुरुष श्रमिकों द्वारा नसबंदी करवाए जाने की स्थिति में भी उन्हें लाभान्वित किया जाता है। साथ ही साथ इस योजना के अंतर्गत श्रमिक दंपति को पुत्र की प्राप्ति होने पर भी आर्थिक सहायता उपलब्ध की जाती है। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना: ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन स्टेटस]

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना

उत्तर प्रदेश सरकार की इस योजना के तहत राज्य के ऐसे सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। इस योजना के अंतर्गत निर्माण श्रमिकों के 25 वर्ष से कम की आयु के बच्चों को कक्षा 1 से लेकर उच्चतर शिक्षा प्राप्त करने हेतु छात्रवृत्ति के रूप में वित्तीय सहायता उपलब्ध की जाती है। राज्य सरकार की इस योजना से मिलने वाले लाभों को एक परिवार के केवल दो बच्चे ही प्राप्त कर सकते है। इस योजना के माध्यम से कक्षा एक से पांच तक के लाभार्थी छात्रों को 150  रुपये प्रतिमाह, कक्षा 6 से 10 तक के छात्रों को 200  रुपये प्रतिमाह, कक्षा 11 एवं 12  के छात्रों को 250 रुपये प्रतिमाह की छात्रवृति प्रदान की जाती है। इसके साथ ही इस योजना का लाभ आईटीआई अथवा समक्ष प्रशिक्षण, इंजीनियरिंग, मेडिकल एवं अनुसंधान के छात्रों को भी लाभान्वित किया जाता है।  राज्य सरकार इस योजना के तहत कक्षा 10वीं एवं 12वीं उत्तीर्ण करने वाली छात्राओं को साइकिल भी उपलब्ध करती है। [यह भी पढ़ें- fcs.up.gov.in | यूपी राशन कार्ड ऑनलाइन आवेदन, UP FCS आधिकारिक वेबसाइट, नई सूची]

कन्या विवाह अनुदान योजना

इस योजना के तहत राज्य के पंजीकृत श्रमिकों की अविवाहित पुत्री के विवाह हेतु वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। कन्या विवाह अनुदान योजना के माध्यम से लाभार्थी श्रमिकों की बेटियों के विवाह में 55 हजार रुपये की धनराशि आर्थिक सहयोग के रुप में प्रदान की जाती है। यदि लाभार्थी श्रमिक की पुत्री का अंतर्जातीय विवाह होता है, तो इस परिस्थिति में उन्हें 61 हजार रुपये की अनुदान धनराशि प्रदान की जाती है। राज्य सरकार द्वारा यह धनराशि न्यूनतम ग्यारह जोड़ों के सामूहिक विवाह की स्थिति में ही प्रदान की जाती है। इसके साथ ही विवाह आयोजन व्यय हेतु 7000 रुपये की राशि का वहन भी स्वयं राज्य सरकार द्वारा ही उठाया जाता है। इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को केवल ऐसे जोड़ें ही प्राप्त करने के योग्य माने जायेंगे, जिसमें वधु की आयु न्यूनतम 18 वर्ष एवं वर की आयु न्यूनतम 21 वर्ष हो। [यह भी पढ़ें- (SSPY) यूपी पेंशन योजना: ऑनलाइन आवेदन, UP Pension Scheme न्यू लिस्ट]

मेधावी छात्र पुरस्कार योजना

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य के श्रमिकों के मेधावी बच्चों को लाभान्वित किया जाता है। इस योजना के तहत 5वीं कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक के छात्रों को 55 प्रतिशत या फिर उससे अधिक अंक प्राप्त करने पर एवं कक्षा 10वीं से 12वीं तक के छात्रों को 50% या उससे अधिक अंक प्राप्त करने पर अधिसूचना की तालिका के अनुसार निहित पुरस्कार प्रदान किये जायेंगे। इसके साथ ही इस योजना का लाभ आईटीआई, बीए, बीकॉम, बीएससी, एमए, एमकॉम, एमएससी, एलएलबी आदि पाठ्यकर्मों के छात्रों द्वारा 60% से अधिक अंक प्राप्त करने पर अथवा पॉलिटेक्निक, डिप्लोमा, इंजीनियरिंग, मेडिकल डिग्री प्राप्त करने हेतु छात्रों द्वारा राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के बाद प्रवेश लिए जाने पर भी प्रदान किया जाता है। [यह भी पढ़ें- UP Scholarship Status: यूपी छात्रवृत्ति रिन्यूअल, scholarship.up.gov.in भुगतान स्थिति]

आवास सहायता योजना

राज्य सरकार की इस योजना के माध्यम से उत्तर प्रदेश राज्य के निर्माण श्रमिकों को नए आवास बनाने अथवा खरीदने हेतु वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। इस योजना के अंतर्गत 1 लाख रुपये की धनराशि वित्तीय सहायता के रूप में प्रदान की जाती है। यदि आवेदक पहले से उपलब्ध अपने आवास का नवीनीकरण करवाते है, तो इस परिस्थिति में उन्हें  15000 रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध की जाती है। इस योजना का लाभ लाभार्थी श्रमिक अपने जीवनकाल में केवल एक बार ही प्राप्त कर सकते है। इसके साथ ही लाभार्थियों को आवास सहायता योजना के तहत आवास बनाने/खरीदने अथवा मरम्मत करने में से किसी एक लाभ को ही प्रदान किया जायेगा, वें एक साथ दोनों लाभों को प्राप्त नहीं कर सकते है। राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत केवल ऐसे श्रमिकों को ही पात्र माना जायेगा, जिनकी आयु 55 वर्ष से अधिक न हो। [यह भी पढ़ें- bor.up.nic.in | BOR UP Certificate Verification (प्रमाणपत्र सत्यापन, खसरा / खतौनी)]

आवासीय विद्यालय योजना

राज्य सरकार द्वारा आरम्भ की गयी इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के निर्माण श्रमिकों के बच्चों को शिक्षा सुविधा के लाभ प्रदान किये जाते है। इस योजना के तहत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को जिनकी आयु 6 वर्ष से लेकर 14 वर्ष तक की है, उन्हें प्राथमिक, जूनियर हाई स्कूल एवं माध्यमिक शिक्षा की सुविधा उपलब्ध करवाने हेतु आवासीय विद्यालयों में प्रवेश प्रदान किया जाता है। राज्य सरकार की इस योजना के माध्यम से लाभार्थी बच्चों को निःशुल्क आवास, वस्त्र, भोजन एवं अन्य सुविधाएँ भी प्रदान की जाती है। वर्तमान समय में आवासीय विद्यालय योजना उत्तर प्रदेश राज्य के कुल 12 जनपदों में सुचारु रुप से संचालित की जा रही है। [यह भी पढ़ें- UP Caste List | उत्तर प्रदेश SC/ST/OBC जाति की सूची पीडीएफ देखे]

सौर ऊर्जा सहायता योजना

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत राज्य के श्रमिकों के स्थाई निवास पर विद्युत सयंत्रों की सुविधा उपलब्ध की जाती है। लाभार्थी श्रमिकों को इस योजना के तहत दो एलईडी बल्ब, एक डीसी टेबल फैन, एक सोलर पैनल, चार्जिंग कंट्रोलर एवं एक मोबाइल चार्जर स्थपित करके दी जाती है। राज्य सरकार द्वारा लाभार्थी श्रमिकों को प्रदान किये गए बिजली सयंत्रों पर 5 वर्ष की गारंटी भी प्रदान की जाती है। इसके साथ ही इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को प्राप्त करने हेतु ऐसे आवेदकों को प्राथमिकता दी जाती है, जिनके बच्चे कक्षा 9 से लेकर कक्षा 12 के मध्य शिक्षा ग्रहण कर रहे हो। [यह भी पढ़ें- (upagripardarshi.gov.in) पारदर्शी किसान सेवा योजना रजिस्ट्रेशन, किसान पंजीकरण]

शौचालय सहायता योजना

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य के आवेदक नागरिकों को अपने आवास में शौचालय निर्माण हेतु वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। शौचालय सहायता योजना की सहायता से लाभार्थियों को 12000 रुपये की धनराशि की आर्थिक सहायता दो समान किस्तों में प्रदान की जाती है। राज्य सरकार की इस योजना के तहत उपलब्ध की जाने वाली वित्तीय सहायता की पहली किस्त प्रोत्साहन अग्रिम के तौर पर एवं दूसरी किस्त शौचालय निर्माण पूर्ण होने तथा प्रयोग आरंभ होने के बाद प्रदान की जाती है। लाभार्थियों का चयन एवं उन्हें आर्थिक सहायता की राशि देने का कार्य जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत प्राप्त होने वाली वित्तीय सहायता की राशि लाभार्थियों को सीधे उनके बैंक खातों में ट्रांसफर कर दी जाती है। [यह भी पढ़ें- Madarsa Portal : उत्तर प्रदेश मदरसा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | UP Madarsa Portal]

महात्मा गांधी पेंशन योजना

राज्य सरकार द्वारा आरम्भ की गयी महात्मा गांधी पेंशन योजना के अंतर्गत प्रदेश के ऐसे निर्माण श्रमिकों को लाभान्वित किया जाता है, जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक हो।  इस योजना के माध्यम से लाभार्थी श्रमिकों को 1000 रुपये की धनराशि पेंशन के रुप में प्रदान की जाती है। अगर किसी भी कारणवश लाभार्थी श्रमिक की मृत्यु हो जाती है तो इस परिस्थिति में पेंशन की राशि उनके पति या पत्नी को प्रदान की जाती है। इस योजना के तहत प्रत्येक 2 वर्षों के अंतराल पर लाभार्थी श्रमिकों के पेंशन में प्रति वर्ष 50 रुपये की वृद्धि की जाती है, जो अधिकतम 1250 रुपये तक होती है। राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को केवल पंजीकृत लाभार्थी द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है एवं पंजीयन की अवधि कम से कम 10 वर्ष निर्धारित की गई है। [यह भी पढ़ें- (रजिस्ट्रेशन) संत रविदास शिक्षा सहायता योजना: ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन फॉर्म]

चिकित्सा सुविधा योजना

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आरम्भ की गयी चिकित्सा सुविधा योजना के अंतर्गत प्रदेश के केवल निर्माण श्रमिकों को ही चिकित्सा सुविधा के लाभ प्रदान किये जाते है। इस योजना के माध्यम से श्रमिकों के विवाहित होने पर तीन हजार रुपये की धनराशि एवं अविवाहित होने पर दो हजार रुपये की राशि की वित्तीय सहायता चिकित्सा हेतु प्रदान की जाती है। राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभों को लाभार्थी दंपत्ति श्रमिकों में पति अथवा पत्नी में से केवल किसी एक को ही प्रदान की जाती है। इस योजना के तहत प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता की राशि सीधे लाभार्थी श्रमिकों के बैंक खातें में स्थांतरित कर दी जाती है। इसके साथ ही राज्य सरकार की इस योजना के लाभ प्राप्त करने हेतु लाभार्थियों को निर्माण श्रमिक के तौर पर बोर्ड में पंजीकृत होना एवं अद्यतन अंशदान जमा करना करना अनिवार्य होगा। [यह भी पढ़ें- (digishaktiup.in) Digi Shakti: यूपी डीजी शक्ति पोर्टल, UP Free Tablet & Smartphone]

आपदा राहत सहायता योजना

इस योजना के अंतर्गत आपदा की पारीस्थिति में राज्य के निर्माण श्रमिकों को एक हजार रुपये की धनराशि वार्षिक, अर्धवार्षिक, त्रैमासिक अथवा मासिक रूप से (जैसे भी केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा निर्णय लिया जाएगा) उनके बैंक खातों में स्थांतरित की जाएगी। आपदा राहत सहायता योजना के माध्यम से प्राप्त होने वाले लाभों को उठाने हेतु इच्छुक लाभार्थियों को निर्माण श्रमिक के रूप में बोर्ड में पंजीकृत होना चाहिए एवं उनके द्वारा अद्यतन अंशदान जमा करते रहना आवश्यक होगा। [यह भी पढ़ें- यूपी मिशन रोजगार | ऑनलाइन आवेदन, UP Mission Rojgar रजिस्ट्रेशन]

गंभीर बीमारी सहायता योजना

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य के पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को किसी भी प्रकार की गंभीर बीमारी हो जाने की स्थिति में आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रदान किये जाने वाले लाभों के समरुप धनराशि की पूर्ण प्रतिपूर्ति की जाएगी। इसके साथ ही अस्पतालों द्वारा लाभार्थियों के इलाज से सम्बंधित एस्टीमेट प्रदान किये जाने पर अस्पतालों को अग्रिम धनराशि का भुगतान भी किया जाता है। राज्य सरकार की इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी श्रमिकों के साथ-साथ लाभार्थी श्रमिकों के पति अथवा पत्नी, अविवाहित पुत्रियाँ तथा 21 वर्ष की आयु से कम के पुत्रों को भी लाभान्वित किया जाता है। [यह भी पढ़ें- यूपी मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना: Mahila Samarthya UP रजिस्ट्रेशन | एप्लीकेशन फॉर्म]

यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट के तहत प्रदान किए जाने वाले लाभ

योजनाओं के नामप्रदान किए जाने वाले लाभ







मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना
पंजीकृत पुरुष श्रमिकों को 6000 रुपये की एकमुश्त धनराशि महिला श्रमिकों को संस्थागत प्रसव की परीस्थिति में तीन महीने के न्यूनतम वेतन के समरूप धनराशि एवं 1000 रुपये की चिकित्सा बोनस राशि लाभार्थी महिला श्रमिकों के गर्भपात की स्थिति में 6 सप्ताह के समकक्ष न्यूनतम वेतन एवं पुरुष श्रमिकों द्वारा नसबंदी कराए जाने की स्थिति में 2 सप्ताह के समरूप न्यूनतम वेतनलाभार्थी श्रमिक के शिशु के पुत्र होने पर 20 हजार रुपये एवं पुत्री होने पर 25 हजार रुपये की वित्तीय सहायता। श्रमिकों द्वारा कानूनी रूप से गोद ली गई बालिका की स्थिति में 25 हजार रूपये की सावधि जमा की जाएगी।बालिका के जन्मजात दिव्यांग होने की दशा में 50 हजार रुपये की सावधि जमा की जाएगी।




संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
कक्षा 1 से 5 तक के लाभार्थी छात्रों को 150 रुपये की प्रतिमाह छात्रवृति कक्षा 6 से 10 तक के लाभार्थी छात्रों को 200 रुपये की प्रतिमाह छात्रवृति कक्षा 11 एवं 12 के लाभार्थी छात्रों को 250 रुपये की प्रतिमाह छात्रवृतिआईटीआई अथवा समकक्ष प्रशिक्षण हेतु सरकारी शुल्क में समरूप  स्नातक के लिए 1000 रुपये तथा परास्नातक के लिए 2000 रुपये, इंजीनियरिंग अथवा मेडिकल परास्नातक के लिए 8000 रुपये प्रति माह एवं अनुसंधान के लिए 12000 रुपये की धनराशि प्रदान की जाएगी।

मेधावी छात्र पुरस्कार योजना
कक्षा 6 से अच्छे अंक प्राप्त करने पर अधिसूचना की तालिका के अनुसार निहित पुरस्कार
आवासीय विद्यालय योजना6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को निःशुल्क आवासीय शिक्षा
कौशल विकास, तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजनानिःशुल्क प्रशिक्षण

सौर ऊर्जा सहायता योजना 
लाभार्थियों को 2 एलईडी बल्ब, 1 डीसी टेबल फैन, 1 सोलर पैनल, चार्जिंग कंट्रोलर, 1 मोबाइल चार्जर प्रदान किया जाएगा।

कन्या विवाह अनुदान योजना
सवजातिये विवाह करने पर 55 हजार रुपये की आर्थिक सहायता एवं जाति के बाहर विवाह करने पर 61 हजार रुपये की अनुदान राशि

आवास सहायता योजना
नये आवास बनवाने हेतु 1 लाख की धनराशि तथा आवास की मरम्मत करवाने हेतु 15 हजार रुपये की आर्थिक सहायता 
शौचालय सहायता योजनाशौचालय निर्माण हेतु 12 हजार की धनराशि वित्तीय सहायता के रूप में 

चिकित्सा सुविधा योजना
अविवाहित श्रमिकों को 2 हजार रुपये प्रतिवर्ष  एवं  विवाहित श्रमिकों को 3 हजार रुपये प्रतिवर्ष की आर्थिक सहायता 
आपदा राहत सहायता योजना1 हजार रुपये की आर्थिक सहायता
महात्मा गांधी पेंशन योजना1 हजार रुपये की प्रतिमाह वित्तीय सहायता 

गंभीर बीमारी सहायता योजना
एंपेनल्ड अस्पतालों में इलाज करवाये जाने पर आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले लाभों के समरूप राशि की पूर्व प्रतिपूर्ति की जाएगी 








मृत्यु विकलांगता संहिता एवं अक्षमता पेंशन योजना
कार्यस्थल पर दुर्घटना होने की स्थिति में 5 लाख की धनराशि प्रदान की जाएगी कार्यस्थल पर दुर्घटना के कारण पूर्ण स्थाई विकलांगता की स्थिति में 3 लाख तथा आंशिक अपंगता की दशा में 2 लाख रुपये की धनराशि प्रदान किये जायेंगे यदि विकलांगता कार्यस्थल पर नहीं होती है या फिर सामान्य मृत्यु होती है तो इस स्थिति में 2 लाख रुपये की धनराशि प्रदान की जाएगीस्थाई आंशिक विकलांगता की परिस्थिति में 1 लाख रुपये की धनराशि प्रदान किए जाएंगेयदि श्रमिक पंजीकृत नहीं है तो इस स्थिति में कार्यस्थल पर गठित मृत्यु होने पर 50 हजार की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगीअगर किसी दुर्घटना या बीमारी के कारण लाभार्थी असक्षम हो जाते हैं तो उन्हें पूरे जीवन काल तक 1500, 1250 अथवा 1000 रुपये की पेंशन प्रदान की जाएगी
अंत्येष्टि सहायता योजनामृतक के आश्रितों को 25 हजार रुपये की धनराशि प्रदान की जाएगी
पंडित दीनदयाल उपाध्याय चेतना योजनासभी सरकारी योजनाओं की जानकारी श्रमिकों तक पहुँचाना 

4Benefits of UP Shram Vibhag Yojana List 2024

  • उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के श्रमिकों को सहायता पहुचाने के लिए यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024 को आरम्भ किया है, इसके द्वारा राज्य के नागरिको को विभिन्न प्रकार की योजनाओ का लाभ दिया जाएगा।
  • UP Shram Vibhag Yojana List 2024 के तहत सरकार द्वारा कई अन्य तरह की योजनाओ का लाभ दिया जाएगा, ताकि वह सभी अपना जीवन अच्छे से गुज़ार सके।
  • उत्तर प्रदेश राज्य के नागरिको को इन योजनाओं का लाभ पाने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से आवेदन कर सकते हैं, और लाभ उठा सकते है।
  • इन योजनाओं से श्रमिकों के जीवन स्तर में सुधार होगा, और उन सभी को उन्हें अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए दूसरों पर निर्भर रहना भी नहीं पड़ेगी।
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा UP Shram Vibhag Yojana List के तहत उन सभी को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगी और साथ ही इन योजनाओं के जरिए वह मजबूत और आत्मनिर्भर भी बन सकेंगे।

यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट 2024

उत्तर प्रदेश सरकार श्रम विभाग के माध्यम से राज्य के श्रमिकों के लिए कई अन्य तरह की योजनाओं को शुरू कर रही है, जो कि कुछ इस प्रकार हैं :-

  • मातृत्व शिशु एवं पालिका मदद योजना
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
  • मेधावी छात्र पुरस्कार योजना
  • आवासीय विद्यालय योजना
  • कौशल विकास तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजना
  • सौर ऊर्जा सहायता योजना
  • कन्या विवाह अनुदान योजना
  • आवास सहायता योजना
  • शौचालय सहायता योजना
  • चिकित्सा सुविधा योजना
  • महात्मा गांधी पेंशन योजना
  • गंभीर बीमारी सहायता योजना
  • मृत्यु विकलांग का सहायता एवं अक्षमता पेंशन योजना
  • अंत्येष्टि सहायता योजना
  • दीनदयाल उपाध्याय चेतना योजना

यूपी श्रम विभाग योजना की पात्रता

योजनाओं के नामपात्रता 
मेधावी छात्र पुरस्कार योजनावह श्रमिक जिनके लड़के या लड़की कक्षा 5 से 9 तक 55% या उससे ज़्यादा अंको से उत्तीर्ण हुए है वह सभी इस योजना के लिए पात्र है तथा 10 और 12 कक्षा तक 50 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त करना वाले छात्र भी इस योजना के लिए पात्र है। इसके अतिरिक्त आईटीआई, बीए, बीकॉम, बीएससी आदि में 60% या उससे ज़्यादा अंको से उत्तीर्ण छात्रों को भी इस योजना का लाभ देने के लिए पात्र माना जाता है और  पॉलिटेक्निक, डिप्लोमा, इंजीनियरिंग, मेडिकल डिग्री में राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद वह छात्र जो दाखिला लेना चाहते है, वह भी इस योजना का लाभ ग्रहण कर सकते है। 
कौशल विकास, तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के हेतु इच्छुक व्यक्ति को इसका लाभ तब ही प्रदान किया जायेगा, जब वह खुद या पति/पत्नी/पिता से पंजीकृत हो और अंशदान अद्यतन जमा कर रहे हो, और अगर पंजीकृत श्रमिक स्वंय ही प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते है तो उनकी उम्र 18 से 35 वर्ष के बीच की होनी चाहिए। इसके अंतर्गत पत्नी की कोई भी आयु सीमा निर्धारित नहीं है, आश्रित लड़के की अधिकतम आयु 21 साल होनी चाहिए, तभी उसे लाभ प्राप्त हो सकेगा। 
मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजनाइस योजना के माध्यम से श्रमिकों को इसका लाभ सिर्फ 2 साल तक ही प्रदान किया जायेगा। सिर्फ संस्थागत प्रसव की स्थिति में ही इस योजना का लाभ दिया जायेगा। पहली कन्या संतान व दूसरी संतान भी कन्या होने पर बालिका मदद योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा। इसके अतिरिक्त जो दंपत्ति निसंतान है, और वह क़ानूनी तौर से कन्या को गोद लेते है तो ऐसी स्थिति में उन्हें भी बालिका मदद योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा। 
कन्या विवाह अनुदान योजनापंजीकृत श्रमिक ही इस योजना के अंतर्गत पात्र है और  उसके द्वारा अंशदान अद्यतन जमा किया होना चाहिए। इसके अंतर्गत 100 दिन पंजीयन की न्यूनतम सीमा निर्धारित की गई है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए दुल्हन की आयु 18 साल या उससे ज़्यादा होनी चाहिए और दूल्हे की 21 साल या उससे अधिक होनी आवश्यक है। इसके अलावा स्वंय की शादी हेतु पंजीकृत महिला श्रमिक इस योजना का लाभ ग्रहण कर सकती है।  
आवासीय विद्यालय योजनाएक पंजीकृत श्रमिक के बालक की उम्र 6 से 14 साल की होनी चाहिए तभी वह इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी हो सकते है। वह निर्माण श्रमिक विभाग में पंजीकृत होने चाहिए। 
संत रविदास शिक्षा सहायता योजनाएक परिवार के अधिकतम दो बच्चो को ही इस योजना का लाभ दिया जायेगा, इस योजना का लाभ ग्रहण करने वाले बच्चे की आयु 25 साल से कम होनी चाहिए और उत्तर प्रदेश के मूल निवासी ही इस योजना के अंतर्गत पात्र है। 
सौर ऊर्जा सहायता योजनाइस योजना के लिए आवेदन करने वाला आवेदक श्रमिक बोर्ड के साथ पंजीकृत होना चाहिए। और उसके द्वारा अंशदान अद्यतन जमा किया होना चाहिए। इस योजना का लाभ एक बार ही दिया जायेगा और एक परिवार के एक ही सदस्य को प्रदान किया जायेगा। 
शौचालय सहायता योजनाइस योजना के लिए आवेदन करने वाला आवेदक श्रमिक बोर्ड के साथ पंजीकृत होना चाहिए। और उसके द्वारा अंशदान अद्यतन जमा किया होना चाहिए। इसके अलावा आवेदक के पास आधार कार्ड व सरकारी बैंक में सीबीएस ब्रांच में खाता होना आवश्यक है, और लाभार्थी श्रमिक द्वारा शौचालय निर्माण से जुड़ी अन्य किसी भी सरकारी योजना का लाभ ग्रहण न किया जा रहा हो। 
आपदा राहत सहायता योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत होना चाहिए और श्रमिकों द्वारा नियमित अद्यतन अंशदान जमा किया जाना चाहिए। 
आवास सहायता योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत होना चाहिए। इस योजना का लाभ आवेदक उम्र भर में केवल एक बार ही ग्रहण कर सकता है। इसके अलावा आवेदक श्रमिक का पंजीयन 5 वर्ष पुराना होना चाहिए और आवेदक की आयु कम से कम 55 साल होनी चाहिए। आवेदक अन्य किसी सरकारी आवास योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर रहा हो, तथा श्रमिक के पास पक्का रिहायशी मकान होना चाहिए, इसके अंतर्गत उसका निर्माण करने हेतु पर्याप्त ज़मीन मौजूद होनी चाहिए। 
चिकित्सा सुविधा योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत होना चाहिए और श्रमिकों द्वारा नियमित अद्यतन अंशदान जमा किया जाना चाहिए। 
अंत्येष्टि सहायता योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत होना चाहिए और उसका अंशदान मृत्यु की तिथि पर प्रभावी होना आवश्यक है। 
गंभीर बीमारी सहायता योजनाइस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत होना चाहिए, इस योजना का लाभ पंजीकृत श्रमिक अथवा उसके पति/पत्नी व उसकी अविवाहित लड़की एवं उसके 21 साल से कम उम्र के लड़को को प्रदान किया जायेगा। इस योजना का लाभ प्राप्त करने वाले नागरिक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत पात्र नहीं है, उन्हें इन योजनाओ का लाभ प्रदान नहीं किया जायेगा। 
महात्मा गांधी पेंशन योजनाश्रमिक उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए, इसके अंतर्गत आवेदन करने वाले आवेदक की उम्र 60 साल या उससे भी ज़्यादा होनी चाहिए। श्रमिक की पंजीयन की अवधि 10 साल होनी आवश्यक है। इसके अलावा आवेदक श्रमिक द्वारा अन्य किसी भी सरकारी योजना का लाभ ग्रहण नहीं किया जा रहा हो। 
मृत्यु विकलांगता संहिता एवं अक्षमता पेंशन योजनाइस योजना के लिए आवेदक पंजीकृत होना ज़रूरी है। राज्य बीमा निगम से पेंशन ग्रहण करने के लिए श्रमिक अपात्र होना आवश्यक है। इस योजना का लाभ वही प्राप्त कर सकते है जिनकी अक्षमता 50% अथवा उससे ज़्यादा होनी चाहिए। 
पंडित दीनदयाल उपाध्याय चेतना योजनाउत्तर प्रदेश के सभी श्रमिक इस योजना के लिए पात्र है, वह सभी इस योजना का लाभ ग्रहण कर सकते है। 

आवश्यक दस्तावेज

  • वोटर आईडी कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु का प्रमाण
  • राशन कार्ड
  • बैंक पासबुक की छायाप्रति

यूपी श्रम विभाग योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

राज्य में रहने वाले जो भी इच्छुक नागरिक UP Shram Vibhag Yojana List के तहत आवेदन करना चाहते है तो आपको नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करना होगा :-

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आ जाएगा।
यूपी श्रम विभाग योजना लिस्ट
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको आवेदन के विकल्प पर क्लिक कर देना है, इसके बाद आपको सामने आवेदन फॉर्म खुल कर आ जाएगा।
  • अब आपको इस आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज कर देना है, इसके बाद आपको सभी दस्तावेजों को अपलोड कर देना है।
  • आपके द्वारा सभी दस्तावेज अपलोड करने के बाद, आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • इस तरह आप यूपी श्रम विभाग योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

यूपी श्रम विभाग योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको श्रम विभाग जाना होगा, इसके बाद आपको वहां से आवेदन पत्र लेना होगा।
  • अब आप को आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज कर देना है और साथ ही सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अटैच कर देना है।
  • इसके बाद आपको यह फॉर्म श्रम विभाग में जमा कर देना है, इस तरह आप यूपी श्रम विभाग योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन कर सकते है।

आवेदन की स्थिति जानने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “योजना के लिए आवेदन की स्थिति जानने के लिए यहाँ क्लिक करें” के लिंक पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने नया पेज प्रदर्शित हो जाएगा।
आवेदन की स्थिति जानने की प्रक्रिया
  • अब आपको इस नए पेज पर आपको अपनी “पंजीयन संख्या” दर्ज करनी है, “सबमिट” के बटन पर क्लिक कर देना है। सम्बंधित आवेदन की स्थिति आपके सामने प्रदर्शित हो जाएगी।

लाभार्थी श्रमिकों की सूची देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “योजनाएं” के सेक्शन में से आपको “लाभवंती श्रमिकों की सूची” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज प्रदर्शित हो जायेगा।
लाभार्थी श्रमिकों की सूची
  • इस नए पेज पर आपको अपने जनपद एवं योजना का चुनाव करना है, और “सबमिट” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। सम्बंधित जानकारी आपके सामने प्रदर्शित हो जाएगी।

श्रमिक पंजीयन/संशोधन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर “श्रमिक” के सेक्शन में से “श्रमिक पंजीयन/संशोधन” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके बाद आपके सामने नया वेबपेज प्रदर्शित हो जाएगा। 
श्रमिक पंजीयन/संशोधन
  • इस पेज पर आपको अपनी आधार संख्या अथवा आवेदन/पंजीयन संख्या एवं मोबाइल नंबर के विवरण दर्ज कर देने होंगे। अब आपको अपने मंडल एवं जनपद का चुनाव करना है।
  • चुनाव करने के बाद आपको “आवेदन/संशोधन करे” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके बाद आपके सामने नया पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद आपको पूछी गई जानकारी दर्ज करनी है, और “सबमिट” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इस सरल प्रक्रिया का पालन करके आप श्रमिक पंजीयन/संशोधन कर पाएंगे।

यूपी श्रम विभाग आवेदन अथवा पंजीयन संख्या जानने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • अब आपको होमपेज पर “श्रमिक” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके पश्चात आपको “अपनी आवेदन/पंजीयन संख्या जाने” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
आवेदन अथवा पंजीयन संख्या जानने की प्रक्रिया
  • इसके बाद आपके स्क्रीन पर एक नया पेज प्रदर्शित हो कर आ जायेगा। इस नए पेज पर आपको अपनी आधार संख्या एवं मोबाइल नंबर के विवरण दर्ज कर देने होंगे।
  • अब आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा, जिसके बाद आपके स्क्रीन पर आपके आवेदन अथवा पंजीयन संख्या की जानकारी प्रदर्शित हो कर आ जाएगी। 

पंजीयन की स्थिति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • अब आपको होमपेज पर “श्रमिक” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके पश्चात आपको “पंजीयन की स्थिति” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
पंजीयन की स्थिति देखने की प्रक्रिया
  • इसके बाद आपके स्क्रीन पर एक नया पेज प्रदर्शित हो कर आ जायेगा। इस नए पेज पर आपको अपनी आधार संख्या, आवेदन संख्या अथवा मोबाइल नंबर में से किसी एक विवरण को दर्ज कर देना है।
  • अब आपको “सर्च” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा, जिसके बाद आपके स्क्रीन पर आपके पंजीयन की स्थिति की जानकारी प्रदर्शित हो कर आ जाएगी। 

नवीकरण की स्थिति देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल कर आ जाएगा।
  • अब आपको होमपेज पर “श्रमिक” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा। इसके पश्चात आपको “नवीनीकरण की स्थिति” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा।
नवीकरण की स्थिति देखने की प्रक्रिया
  • इसके बाद आपके स्क्रीन पर एक नया पेज प्रदर्शित हो कर आ जायेगा। इस नए पेज पर आपको अपनी पंजीयन संख्या के विवरण दर्ज कर देने होंगे।
  • अब आपको “रिसेट” के विकल्प पर क्लिक कर देना होगा, जिसके बाद आपके स्क्रीन पर सम्बंधित जानकारी प्रदर्शित हो कर आ जाएगी।

श्रमिक सर्टिफिकेट डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको  उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा। 
  • वेबसाइट के होम पेज पर श्रमिक के विकल्प पर क्लिक करना है अब आपको श्रमिक सर्टिफिकेट के विकल्प पर क्लिक कर देना है। 
श्रमिक सर्टिफिकेट
  • अब आपको अपनी आधार संख्या और पंजीयन संख्या दर्ज कर देनी है। इसके बाद आपको सर्च के विकल्प पर  क्लिक कर देना है। अब आपके सामने श्रमिक सर्टिफिकेट प्रदर्शित हो जायेगा। 
  • इसके बाद आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इस प्रकार आप श्रमिक सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकते है।  

Leave a Comment